निर्भया केस : दोषी मुकेश के सारे रास्ते बंद, फांसी पर चढ़ना तय

0

नई दिल्ली। निर्भया के दोषियों की फांसी की तारीख तय होने के बाद से ही दोषी फांसी से बचने के लिए हर हथकंड़े अपना रहे हैं। वहीं दोषी मुकेश फांसी से बचने के लिए हर तरह के कानूनी पैंतरे अपना चुका है अब उसने अपने आखिरी दांव को भी आजमाना चाहा है। राष्ट्रपति से दया याचिका खारिज होने के बाद मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट ने दोषी मुकेश की अर्जी को खारिज कर दिया है।

दरअसल दया याचिका खारिज होने के खिलाफ मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। जिस पर सोमवार को कोर्ट में सुनवाई की गई और मंगलवार को याचिका खारिज कर दी गई। मंगलवार को सुनवाई के दौरान मुकेश के वकील कहा कि मुकेश के साथ जेल में यौन उत्पीड़न हुआ है।

राष्ट्रपति की याचिका को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में मुकेश की ओर से दलील रख रही वकील अंजना प्रकाश ने कहा कि मुकेश का जेल में यौन उत्पीड़न हुआ। उस समय प्रिजन ऑफिसर वहां थे, लेकिन उन्होंने मदद नही की। मुकेश को उस समय हॉस्पिटल नहीं ले जाया गया। बाद में उसे दीन दयाल उपाध्याय हॉस्पिटल ले जाया गया।

मुकेश की वकील ने कहा वो मेडिकल रिपोर्ट कहां है? तिहाड जेल प्रशासन पर आरोप लगाते हुए मुकेश की वकील ने हुए कहा कि मुकेश को क्यूरेटिव याचिका खारिज होने से पहले ही एकांत कारावास में रखा गया था।

फांसी से बचने के लिए सभी दोषी जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं। गौरतलब है कि 1 फरवरी को सुबह छह बजे निर्भया के सभी दोषियों को फांसी देनी हैं, लेकिन कानूनी अधिकार के चलते एक बार फिर फांसी टलने की आशंका जताई जा रही है।