प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल की बेहद खास तस्वीर शेयर की। उन्होंने 1100 किलोमीटर साइकिल चलाकर नर्मादा जल भेंट दिया है। दिल्ली पहुंचने के बाद केंद्रीय मंत्री ने नरसिंहपुर (Narsinghpur) निवासी साइकिल यात्रियों की मुलाकात पीएम मोदी से कराई थी। आइए जानते हैं केंद्रीय मंत्री ने फोटो शेयर करते हुए फेसबुक पेज पर क्या लिखा।

प्रहलाद पटेल ने फोटो किया शेयर

प्रहलाद पटेल लिखा, “नरसिंहपुर जिले का माँ नर्मदाजी का जल और चीचली में बना कलश, जैविक अरहर दाल व करमेता (सही नाम कलमेटा) हार की मिट्टी (एशिया महाद्वीप की सबसे उपजाऊ मिट्टी) डॉ अनंत दुबे के नेतृत्व में देवेंद्र दुबे और बृजेश पटेल ने 1100 किमी की साइकिल यात्रा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को सौंपी, आभार मा. प्रधानमंत्री जी.”

आपको बता दें कि नर्मदा को देश की सबसे पवित्र नदियों में से एक माना जाता है. नर्मदा नदी का जल अभी भी प्रदूषण रहित और हानिकारक केमिकल से बचा हुआ है. मध्यप्रदेश में मां नर्मदा के प्रति लोगों में अगाध श्रद्धा भी है. नदी की पवित्रता को देखते हुए नरसिंहपुर के साइकिल यात्री चीचली निर्मित कलश में नर्मदा जल लेकर प्रधानमंत्री को देने गए और साथ में संदेश भी दिया कि देश की सभी नदियों की पवित्रता बरकरार रहनी चाहिए.

क्या है कलमेटा हार की मिट्टी?

कलमेटा हार की मिट्टी को एशिया में सबसे अधिक उपजाऊ माना जाता है. कहा जाता है कि खेत में बीज डालो और भूल जाओ. खेत में न पानी देने की झंझट और न किसी तरह की खाद डालने की जरूरत. फसल पकने के बाद काटने पहुंच जाओ. नरसिंहपुर जिले के कलमेटा हार की मिट्टी की एक सच्चाई है. किसानों के सपनों का खेत नरसिंहपुर में देखने को मिलते हैं. उपजाऊ खेत की मिट्टी को लोग सीधे दंत मंजन और शैंपू की तरह इस्तेमाल करते हैं. एक एकड़ में चना का उत्पादन 10 से 15 क्विंटल, मसूर का 15 से 25 क्विंटल और बटरी का 8 से 10 क्विंटल तक हासिल किया गया है.