लखनऊ। 2001 के चर्चित ऊसरी चट्टी कांड में नया मोड़ सामने आया है। गाजीपुर की मोहम्मदाबाद कोतवाली में मऊ के पूर्व विधायक और बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के खिलाफ हत्या का एक नया केस दर्ज किया गया है। ये मामला 22 साल पुराने उसरी चट्टी हत्याकांड में दर्ज किया गया है।

बता दे कि मुहम्मदाबाद कोतवाली क्षेत्र में करीब 21 साल पहले हुए उसरी चट्टी हत्याकांड में वादी और मुख्य गवाह मुख्तार अंसारी पर ही हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ है। इस घटना में मारे गए मनोज राय के पिता ने गाजीपुर की मोहम्मदाबाद कोतवाली में FIR दर्ज कराई है। जानकारी के लिए आपको बता दे कि, हमले के दौरान बिहार के बक्सर जनपद के राजपुर थाना क्षेत्र के सगरांव गांव का मनोज राय भी मारा गया था।

Also Read – अमेरिका के कैलिफोर्निया में फायरिंग, 10 लोगों की मौत, कई घायल

बता दे कि साल 2001 में ऊसरी चट्टी कांड में 3 लोग मारे गए थे। इसके साथ ही इस हत्याकांड में बृजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह मुख्य आरोपी है। इस मामले में मुख्तार वादी है और एमपी/एमएलए कोर्ट में विचाराधीन है। मृत मनोज राय के पिता का कहना है कि 22 साल पहले जब उनके बेटे की हत्या हुई थी, तब मुख्तार के खौफ की वजह से उन्होंने मुकदमा नहीं करवाया था।

2001 को ऊसरी चट्टी कांड में तत्कालीन विधायक मुख्तार अंसारी के काफिले पर गोली चली थी और उसमें उनके सरकारी गनर समेत उनके एक समर्थक की मौत हुई थी और 8 से 9 लोग घायल हुए थे, जबकि एक तीसरा व्यक्ति मनोज राय भी उसी शूटआउट में मारा गया था।