बे पटरी हुई ट्रैन से रुका मुम्बई-दिल्ली रेल यातायात एक बार फिर शुरू

कल रतलाम रेल मंडल के दाहोद एवं गोधरा स्टेशन के बीच मंगलमहुड़ी यार्ड व लिमखेड़ा रेलवे स्टेशन के नजदीक मालगाड़ी के आठ डिब्बे अप एवं आठ डिब्बे डाउन लाइन पर इस प्रकार कुल 16 डिब्बे रविवार रात्रि 12.48 पर पटरी हो गए।

रतलाम रेल मंडल के दाहोद एवं गोधरा स्टेशन के बीच मंगलमहुड़ी यार्ड व लिमखेड़ा रेलवे स्टेशन के नजदीक मालगाड़ी के आठ डिब्बे अप एवं आठ डिब्बे डाउन लाइन पर इस प्रकार कुल 16 डिब्बे रविवार रात्रि 12.48 पर पटरी हो गए। इससे मुख्य रेलवे मार्ग का यातायात अवरुद्ध हो गया। इसकेबाद दिल्ली-मुंबई रेलवे मार्ग पर चलने वाली अप एवं डाउन यात्री गाड़ियों सहित कई मालगाड़ियां भी प्रभावित हुईं। इस मार्ग पर चलने वाली कुछ गाड़ियों का मार्ग परिवर्तित करते हुए अन्य मार्ग से परिचालन किया गया। कुछ गा.डियों को अहमदाबाद से पालनपुर वाया, चित्तौड़गढ़, अजमेर, रतलाम होते हुए भेजा गया। कई यात्रियों ने यात्रा निरस्त की तो कई को बसमार्ग से यात्रा करना पड़ी।

Also Read – सावन का पहला मंगला गौरी व्रत आज, जानें- इसका महत्व और पूजन विधि

कई पैसेंजर ट्रेनों तो निरस्त करनी पड़ी।घनगर रेलवे स्टेशन पर रात्रि में अप एवं डाउन दोनों दिशाओं से आने वाली कई ट्रेनों के नहीं पहुंचने से यात्रियों को काफी परेशानी उठाना पड़ी। आरक्षण टिकट लेकर यात्रा करने वाले मेघनगर व आसपास झाबुआ, रानापुर, आलीराजपुर, धार, बड़वानी एवं कुक्षी के यात्रियों को दोनों दिशाओं में जाने के लिए ट्रेन नहीं आने से निजी वाहन से वापस अपने घरों की ओर लौटना पड़ा। इनमें में कई लोग मुंबई एवं अहमदाबाद के अस्पतालों में स्वास्थ्य लाभ हेतु जा रहे थे। 

दुर्घटना की सूचना मिलते ही मंडल रेल प्रबंधक विनीत गुप्ता तथा रेल अधिकारियों का अमला मौके पर पहुंचा तथा राहत कार्य युद्ध स्तर पर शुरू करवाया था वहीं बड़ोदरा रेल मंडल से भी सहायता मिली थी ।आखिरकार आज सुबह रेलवे ने मरम्मत का काफी कार्य कर लिया तथा एक रेल ट्रैक शुरू कर दिया है बड़ोदरा से पहली ट्रेन रतलाम की ओर आ रही है। पश्चिमी रेलवे के महाप्रबंधक व मंडल रेल प्रबंधक सहित आला अधिकारी दुर्घटना स्थल पर पहुंचे थे । रेलवे प्रशासन ने दुर्घटना के कारणों की जांच के आदेश दे दिए हैं।