मध्य प्रदेश के कई जिलों में कई मौसम साफ रहा तो कही पर हल्की बारिश हुई हैं। लेकिन अच्छी खबर यह रही की समुचे प्रदेश में कही भी भारी बरसात नही हुई है। मौसम की गतिविधि कम होने से राहत की खरब है। इसकी बड़ी वजह यह रही है कि, उत्तर राजस्थान की ओर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है और एक ट्रफ रेखा उसी परिसंचरण से छत्तीसगढ़ की उत्तरी कलाओं की ओर जा रही है। इससे एमपी में बारिश हो सकती है लेकिन भारी बारिश की संभावना नहीं है।

चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र

कई दिनों से प्रदेश भर में हल्की बरसात दर्ज की गई हैं। वहीं राजधानी भोपाल में बारिश की गतिविधियां कम देखने को मिली हैं। इसकी बड़ी वजह मौसम विभाग नेे बताया कि, उत्तर राजस्थान की ओर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है और एक ट्रफ रेखा उसी परिसंचरण से छत्तीसगढ़ की उत्तरी कलाओं की ओर जा रही है। इससे एमपी में बारिश हो सकती है लेकिन भारी बारिश की संभावना नहीं है।

Also Read : आज 4 बजे स्वच्छता अवार्ड लेकर इंदौर आएंगे जनप्रतिनिधि और अफसर

मध्य प्रदेश के इन जिलों में बरसेगा पानी

भोपाल मौसम विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश में एक बार फिर बंगाल की खाड़ी में बनने वाली नमी से संचालित चक्रवात बारिश का कारक बन रहा है। कल भी प्रदेश की व्यवसायिक राजधानी इंदौर सहित प्रदेश के कई जिलों में अच्छी खासी बारिश दर्ज की गई। आने वाले 24 घंटों में भी इंदौर और उससे लगे हुए जिले धार और झाबुआ, अलीराजपुर में दोपहर बाद से लेकर शाम तक सामान्य से कुछ तेज बारिश की संभावना बन रही हैं।

अभी भी देश के कई हिस्से में बारिश जारी

हमारे देश का वातावरण अपने पुराने नियमित स्वरूप से लगातार परिवर्तित होता जा रहा है। जहां एक ओर देशभर के वातावरण में तापमान की वृद्धि और उमस की मौजूदगी बढ़ गई है, वहीं देश में प्रतिवर्ष नियमानुसार होने वाली बारिश भी अब अपना स्वरूप लगातार परिवर्तित करती जा रही है। नियमानुसार बारिश का मौसम हमारे देश में समाप्ति की कगार पर होना चाहिए था, परन्तु लगातार परिवर्तित होती भौगोलिक परिस्थतियों की वजह से अभी भी देश के कई हिस्से में बारिश जारी है।