मध्यप्रदेश पुलिस महानिदेशक सुधीर सक्सेना के निर्देश अनुसार पूरे प्रदेश में एक साथ तमाम जिलों में देर रात कांबिंग गश्त का सिलसिला चल पड़ा. प्रदेश के इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी कार्यवाही एक रात में की गई जिसमे बड़े स्तर पर गुंडे – बदमाशों फरारी, ईनामी, गिरफ्तारी, स्थाई वारंटियों,जिला बदर उल्लघंन करने वाले आरोपियों की धरपकड़ की गई. इसी क्रम में उज्जैन व रतलाम जोन में भी बड़े स्तर पर कार्रवाई की गई. तमाम जिलों के एसएसपी, एसपी, एएसपी के मार्गदर्शन में शहर/देहात थाना क्षेत्रों में अपराधों की रोकथाम और अवैध गतिविधियों पर अंकुश लगाने हेतु स्थाई,गिरफ्तारी,फरारी वारंट, जिलाबदर आरोपियों की चैकिंग, वाहन चैकिंग कर संदिग्धों की धड़पकड़ कर अभियान चलाया गया था जिसमें पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है.

17 हज़ार पुलिस कर्मियों ने लिया हिस्सा

एमपी पुलिस ने पहली बार एक साथ कांबिंग गश्त की है. जिसमें प्रदेश से 9 हजार 500 वारंटी और अपराधी पकड़े गए है. इस गश्त में 17 हजार से अधिक पुलिसकर्मियों ने हिस्सा लिया. जिसमें 2,600 स्थायी वारंटियों, 100 फरार अपराधियों, 200 ईनामी बदमाशों तथा लगभग 1000 से अधिक अन्य अपराधियों को पकड़ा गया है.

665 आरोपियों को किया गिरफ्तार

कॉम्बिंग गश्त में शामिल राजपत्रित अधिकारियों की संख्या कुल 47 थी व कॉम्बिंग गश्त में शामिल कुल पुलिस बल की संख्या कुल 2836 थी. जिन्होंने तामिल गिरफ्तार वारंटियों 665 आरोपियों को धर दबोचा. जिसमें उज्जैन के 193 , रतलाम के 128, मंदसौर के 107, देवास के 83, आगर मालवा के 58, नीमच के 37 व शाजापुर के 59 है. साथ ही तामिल स्थाई वारंटिओं की संख्या दोनो जोन में कुल 299 रही. जिला उज्जैन के 93, देवास के 59 रतलाम के 46 नीमच के 39, मंदसौर के 10, आगर मालवा के 18, शाजापुर के 34 है. बात फरार आरोपियों की संख्या की करें तो कॉम्बिंग गश्त के दौरान दोनो जोन में कुल 5 को गिरफ्तार किया गया. मंदसौर के 02, जिला उज्जैन का 01, नीमच का 01, देवास का 01.

इतनी संख्या में धराये इनामी बदमाश

उज्जैन तो रतलाम जून के इनामी बदमाशों के बारे में जानकारी ली जाये तो कॉम्बिग गश्त के दौरान  गिरफ्तार किये गए अपराधियों की संख्या 19 है. जिसमें से जिला नीमच के 12, उज्जैन के 02, रतलाम के 02, मंदसौर के 02, देवास का 01 व शाजापुर का 01 शामिल है. अन्य गिरफ्तार आरोपियों की संख्या कुल 107 है जिला आगर मालवा में 38, मंदसौर में 18, देवास में 18, रतलाम में 16, उज्जैन में 10, नीमच में 03 व शजापुर के 4 को धर दबोचा गया. चैक किए जिलाबदर आरोपियों की संख्या दोनो जोन में कुल 164 रही. जिला रतलाम में 71, उज्जैन में 44, देवास में 25 नीमच में 05, मंदसौर में 04, व शाजापुर में 15. बात अन्य की करें तो जिला उज्जैन में कुल 44 वर्तमान में प्रभावशील जिला बदर चैक किये गये. जिसमें से 40 अपने निवास पर अनुपस्थित और 05 अपराधियों के द्वारा जिला बदर आदेश का उल्लंघन किये जाने से गिरफ्तार कर रा. सु.का अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है.