MP News : अब पेपरलेस मिलेगा बिजली बिल, मोबाइल पर ऐसे आ जाएगा ई-बिल

मोबाइल में दिए गए ई- बिल में ही पेमेंट लिंक दी रहेगी, जिससे उपभोक्ता समय पर कैशलेस बिल जमा कर सकते है।

मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी इंदौर (MPEB Indore) के साथ ही 15 जिला मुख्यालयों पर पर अगले दो महीने में पेपरलेस बिल (Paperless Bill) व्यवस्था शुरू करेगा। जिससे उपभोक्ता को रीडिंग (Reading) के वक्त ही मोबाइल पर बिजली बिल दिया जाएगा। कंपनी के आईटी और कमर्शियल (IT and Commercial) के साथ मैदानी अधिकारियों ने भी इसके ऊपर काम करना शुरू कर दिया है।

मोबाइल में दिए गए ई- बिल में ही पेमेंट लिंक दी रहेगी, जिससे उपभोक्ता समय पर कैशलेस बिल जमा कर सकते है। मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी इंदौर के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने बताया कि अगले 2 महीने में इंदौर, उज्जैन, रतलाम, देवास, शाजापुर, आगर, धार, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, बुरहानपुर, झाबुआ, आलीराजपुर, मंदसौर, नीमच जिला मुख्यालयों पर पेपरलेस बिल मिलना शुरू हो जाएगा।

Also Read – Weather Update: इंदौर-उज्जैन सहित इन जिलों में होगी बारिश, 27 जून से झमाझम बरसेंगे मेघ

इस तरीके से काम करेगा पेपरलेस बिल सिस्टम

एमडी तोमर ने बताया कि अब मीटर रीडर घर, दुकान, कार्यालय या अन्य परिसरों पर जाकर फोटो मीटर रीडिंग लेगा। इसके बाद एप से बिल जनरेट होगा, उसी वक्त उपभोक्ता के मोबाइल पर बिल आ जाएगा। इस पेपरलेस बिल के साथ ही पेमेंट लिंक भी दी रहेगी, जिसकी मदद से कोई भी उपभोक्ता बिल जमा कर सकता है।

उपभोक्ता को होगा फायदा

अधिकारियों ने बताया कि घर बैठे केशलेस बिल भरने पर एलटी घरेलू उपभोक्ताओं को कम से कम 5 रूपए से लेकर ज़्यादा से ज़्यादा बिल राशि से आधा प्रतिशत छूट दी जाएगी। वहीं दूसरी ओर जो एलटी गैर घरेलू उपभोक्ता है उनको कैशलेस बिल जमा करने पर 5 रूपए से लेकर ज़्यादा से ज़्यादा 20 रूपए प्रति बिल छूट दी जाएगी। वहीं जिन उपभोक्ता को कैशलेस बिल जमा नहीं करना हो वह अपने जोन के भुगतान केंद्र पर जाकर मोबाइल पर मिले पेपरलेस बिल को दिखाकर बिल जमा कर सकते है।

14 लाख उपभोक्ता

बिजली कंपनी के इंदौर के साथ ही सभी 15 जिला मुख्यालय वाले शहरों में पुरे 14 लाख उपभोक्ता है। इसमें से अभी फिलहाल में 70 से 80 प्रतिशत के मोबाइल नंबर है। बाकी जिनके मोबाइल नंबर नहीं है मीटर रीडर उनके घर घर जाकर नंबर लेंगे। जिन उपभोक्ता के मोबाइल नंबर बदल गए है, वह रीडर को अपना नया नंबर दे सकते है या ऊर्जस एप पर बदला हुआ नया नंबर डाल सकते है।

Also Read – मध्यप्रदेश के रिटायर आईएएस ने किया निजी बंगले में अवैध निर्माण, भोपाल कोर्ट में देना होगा जवाब