MP News : यौन शौषण के आरोपों में घिरे लॉ इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर, शिवराज सरकार लेगी एक्शन!

MP News : भोपाल में स्थित नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी से जुड़ी हाल ही में एक बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि यहां एक प्रोफेसर पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया है।

MP News : भोपाल में स्थित नेशनल लॉ इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी (Law Institute professor) से जुड़ी हाल ही में एक बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि यहां एक प्रोफेसर पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया है। जिसके बाद सीएम शिवराज ने खुद इस मामले को लेकर संज्ञान लिया है। इस मामले के सामने आते ही सीएम शिवराज ने तुरंत बैठक बुलाई है।

जानकारी के मुताबिक, भोपाल की नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी में छात्राओं से यौन शोषण का बेहद ही बड़ा मामला सामने आया है। दरअसल, कई छात्रों ने कॉलेज के एक प्रोफेसर जिसका नाम रंजन मोहंती है उस पर अश्लील मैसेज और वीडियो भेजने का आरोप लगाया है।

Must Read : टॉपलेस होकर जंजीरें पहनना Urfi Javed को पड़ा भारी, हाल जानकार हो जाएंगे हैरान, देखें तस्वीरें

इस आरोप के बाद उस प्रोफेसर को कॉलेज से इस्तीफा देना पड़ गया। साथ ही अब इस मामले को लेकर सीएम शिवराज ने बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि इस यूनिवर्सिटी की कई छात्राओं द्वारा यूनिवर्सिटी प्रबंधन को ये शिकायत की गई कि रंजन मोहंती प्रोफेसर की तरफ से अश्लील मैसेज और वीडियो भेजे जा रहे हैं।

लेकिन उसके बाद भी कोई कार्यवाई नहीं की गई। जिसके बाद गुरुवार को छात्राओं ने आरोपी प्रोफेसर के दफ्तर में घुस कर हंगामा किया था। तब जाकर कुलपति ने प्रोफेसर से इस्तीफा मांगा। बता दे, छात्राओं ने कुलपति से ये बात कही है कि प्रोफेसर द्वारा भेजे गए अश्लील कंटेंट को बतौर सबूत संभाल कर रखा गया है।

सीएम शिवराज लेंगे एक्शन –

जानकारी के मुताबिक, सीएम शिवराज ने इस मामले को लेकर आपात बैठक बुलाई है। दरअसल, सीएम ने एनएलआईयू प्रकरण में उच्च स्तरीय बैठक बुलाकर जांच पर कड़ी कार्यवाई करने के आदेश दिए है। इसके साथ ही सीएम ने बैठक में डीजीपी सुधीर कुमार सक्सेना और भोपाल पुलिस कमिश्नर मकरंद देउसकर से कहा है कि इस जांच में महिला पुलिस अधिकारीयों को भी शामिल किया जाए। साथ ही में सीएम ने कहा है कि छात्र छात्राओं से दुर्व्यवहार सहन नहीं किया जाएगा। ऐसे में जरुरत होने पर प्रकरण के संबंध में उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से भी चर्चा की जाएगी।