मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में चल रहे मेट्रो प्रोजेक्ट को गति देने के लिए मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध संचालक मनीष सिंह ने रविवार को समीक्षा बैठक की। इसमें मेट्रो प्रोजेक्ट निर्माण के सभी स्टेकहोल्डर्स के साथ कई अधिकारी मौजूद रहे। प्रगति समीक्षात्मक बैठक की।

अहम मुद्दों पर हुई चर्चा

परियोजना की अद्यतन प्रगति और निर्माण कार्य को द्रुत गति प्रदान करने के उद्देश्य से आयोजित बैठक में MPMRCL के वरिष्ठ पदाधिकारियों, जनरल कंसलटेंट के प्रतिनिधियों एवं प्रायोरिटी कॉरिडोर के निर्माण में लगी कॉन्ट्रैक्टर्स पार्टनर रेल विकास निगम लिमिटेड (RVNL) एवं डिपो निर्माण में लगी उपक्रम KSMB तथा प्रायोरिटी कॉरिडोर के कांट्रेक्टर पार्टनर दिलीप बिल्डिकॉन लिमिटेड के प्रतिनिधियों के साथ-साथ इंदौर की म्यूनिसिपल कमिश्नर श्रीमती प्रतिभा पाल ने भी भाग लिया। बैठक में परियोजना के क्रियान्वयन, डिज़ाइनिंग, सिविल वर्क, सिस्टम आदि विषयों पर विस्तृत चर्चा हुई। प्रबंध संचालक ने सभी सहयोगी संस्थाओं से आपसी समन्वय के साथ परियोजना कार्य को गति प्रदान करने का निर्देश दिया।

कॉन्ट्रैक्टर्स से सीधा संपर्क

प्रबंध निदेशक ने जनरल कंसलटेंट तथा कांट्रेक्टर को आपसी सामंजस्य स्थापित कर निर्माण कार्य के लिए आवश्यक 24 प्रायोरिटी डिज़ाइन को इस माह के अंत तक प्राथमिकता से पूरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने मेट्रो प्रोजेक्ट में लॉजिस्टिक चैन प्रबंधन तथा वेंडर सप्लाई प्रबंधन को समुचित तरीके से व्यवहार में लाने पर जोर देते हुए कहा कि इससे प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन को गति मिलेगी। उन्होंने जनरल कंसलटेंट के प्रोजेक्ट डायरेक्टर तथा MPMRCL पदाधिकारियों को इस कार्य के लिए सभी कॉन्ट्रैक्टर्स के प्रमुखों के साथ सीधा संपर्क में रहने के निर्देश दिए।

चौराहों का सौंदर्यीकरण

बैठक के दौरान श्री सिंह ने मेट्रो प्रोजेक्ट के काम – काज के साथ साथ निर्माण स्थल और इसके आस-पास सौंदर्यीकरण के भी निर्देश दिए। उन्होंने चन्द्रगुप्त चौराहा से लेकर बापट चौराहा तक सौन्दर्यीयकरण, सुपर कॉरिडोर पर निर्माणाधीन गांधीनगर मेट्रो स्टेशन के पास डायवर्सन रोड को समुचित तरीके से विकसित करने के निर्देश दिए।

सड़क का चौड़ीकरण

उन्होंने कहा कि जनवरी 2023 में प्रस्तावित इन्वेस्टर्स समिट तथा प्रवासी भारतीय सम्मलेन के कारण इस सड़क पर VVIP गतिविधि एवं यातायात के लिहाज से डायवर्सन रोड विकसित किया जाय। इस विषय पर संज्ञान लेते हुए म्यूनिसिपल कमिश्नर श्रीमती प्रतिभा पाल ने मेट्रो पदाधिकारियों को बुलाकर शीघ्र निर्णय लिए जाने का विश्वास जताया। प्रबंध निदेशक ने गाँधीनगर में निर्माणाधीन मेट्रो ट्रैन डिपो में भी लिंक रोड्स, पौधारोपण एवं सौंदर्ययीकरण के अन्य उपाय करने की बात कही। उन्होंने बापट चौराहा पर मेट्रो निर्माण स्थल की चारो ओर सड़क चौड़ीकरण करने के निर्देश दिए एवं निर्माण पूर्ण हो चुके स्थानों पर लगे अनावश्यक बैरिकेडिंग को भी जल्द से जल्द हटा लिए जाने के निर्देश दिए ताकि संकरी सड़कों के कारण ट्रैफिक की समस्या ना उत्पन्न हो।

पदाधिकारियों को दिए निर्देश 

प्रबंध संचालक ने MPMRCL के पदाधिकारियों के साथ कार्यालय व्यवस्था को भी व्यापक करने के भी विचार विमर्श किये । उन्होंने प्रोजेक्ट के ऑनरशिप (जिम्मेवारी) की भावना विकसित करने के उद्देश्य से प्रोजेक्ट के अद्यतन प्रगतियों के प्रस्तुतीकरण MPMRCL पदाधिकारियों द्वारा किये जाने के लिए निर्देशित किया। साथ ही परियोजना के ससमय पूर्णता के लक्ष्य को देखते हुए त्वरित और सटीक निर्णय लेने, लंबित विषयों के अविलम्ब निस्तारण करने और महत्वपूर्ण विषयों को उनके संज्ञान में लाये जाने के भी निर्देश दिए। इस मौके पर उनके साथ MPMRCL से के सी चौहान, महाप्रबंधक व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।