मुरैना पटवारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, कार्यवाही की लोकायुक्त टीम ने

मुरैना से ऱिश्वत लेने का मामला सामने आया है। जहां मुरैना तहसील के गंज रामपुर हल्का पटवारी अरुण शर्मा को ग्वालियर लोकायुक्त की टीम ने 3500 रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा हैं।

मध्यप्रदेश में लगातार घूसखोर होने के कारण जनता को कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं। इसी के साथ कई अधिकारियों को रिश्वत लेते रगेंहाथो पकडकर बर्खाश्त भी किया गया है लेकिन फिर भी संबंधित अधिकारी सुधरने का नाम नही ले रहे है। हाल के दिन में प्रदेश के मुरैना से ऱिश्वत लेने का मामला सामने आया है। जहां मुरैना तहसील के गंज रामपुर हल्का पटवारी अरुण शर्मा को ग्वालियर लोकायुक्त की टीम ने 3500 रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा हैं।

क्या है मामला

मुरैना तहसिल के गंजरामपुर के किसान भगवान सिंह ने पटवारी अरूण शर्मा से खेत के सिलसिले में काम करने को कहा तो उसने काम करने के लिए किसान से 3500 रूपए की मांग की। जब घटना की जनकारी किसान ने आरोपी की शिकायत लोकायुक्त के अधिकारियों से की। इसके बाद लोकायुक्त के अधिकारियों ने मामले का संज्ञान लिया। पटवारी पर कार्यवाही करते हुए गिरफ्तार कर लिया गया हैं और बंद कमरे में आरोपी पटवारी से पूछताछ चल रही हैं।

Also Read : सीएम नीतीश कुमार और सीएम केसीआर के बीच महागठबंधन को लेकर हुई अहम चर्चा

गौरतलब है कि, इससे पहले मंगलवार को टीकमगढ़ जिला कोषालय कार्यालय में पदस्थ जिला कोषालय अधिकारी विभूति अग्रवाल और सहायक कोषालय अधिकारी शिवराम प्रजापति को लोकायुक्त पुलिस सागर की टीम ने 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था। टीकमगढ़ जिले में सीएमएचओ के पद पर पूर्व में पदस्थ रहे शिवेन्द्र चौरसिया के जीपीएफ, अर्जित अवकाश और मेडिकल सहित करीब 43 लाख रुपये के भुगतान कराने के एवज में रिश्वत मांगी जा रही थी।