देश में मानसून का कहर जारी, जम्मू – कश्मीर में बादल फटने से हालत खराब मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

भारी बारिश के बाद बाढ़ ने आधे हिंदुस्तान में कोहराम मचा रखा है,

भारी बारिश के बाद बाढ़ ने आधे हिंदुस्तान में कोहराम मचा रखा है, राजस्थान, केरल से लेकर हिमाचल प्रदेश तक बाढ़ ने कहर मचाया हुआ है. जम्मू कश्मीर में भी वहीं हाल है. बुधवार को जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा में बादल फटने की खबर सामने आई है, बादल फटने से दो गांव बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. यहां बादल फटने के बाद सैलाब आ गया और गांवों में पूरी तरीके से बारिश के पानी की चपेट में आ गए.

वर्तमान में 3 वेदर सिस्टम एक्टिव है और मानसून ट्रफ के उत्तर भारत की तरफ खिसकने के संकेत मिले हैं,ऐसे में आज से बारिश में कमी आएगी। एमपी मौसम विभाग ने आज 28 जुलाई 2022 को सभी संभागों में हल्की से मध्यम बारिश और 7 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। वही 5 संभागों और 12 जिलों में बिजली गिरने और चमकने का भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। बुधवार काे अनूपपुर, शहडाेल, डिंडाेरी, बालाघाट, मंडला, सिवनी, विदिशा, रायसेन, भिंड, मुरैना, शिवपुरी जिलाें बारिश के साथ भाेपाल, इंदौर, जबलपुर में बादल छाए रहेंगे।एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज बुधवार 27 जुलाई को 7 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। इसमें मंडला, बालाघाट, सिवनी, दमोह, सागार, सीहोर और देवास में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वही रीवा, शहडोल, नर्मदापुरम, भोपाल और चंबल संभाग के साथ देवास, शाजापुर, आगर, बुरहानुपर, खंडवा, खरगोन, सिवनी, मंडला, बालाघाट, पन्ना, दमोह, सागर में बिजली गिरने और चमकने के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है।

Also Read – अगस्त से शुरू होने वाले हैं इन राशियों के अच्छे दिन, बुध देव की रहेगी विशेष कृपा

एमपी मौसम विभाग (MP Weather Forecast) के अनुसार, वर्तमान में पूर्वी राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर मप्र, पूर्वी विदर्भ एवं छत्तीसगढ़ से हाेते हुए रायलसीमा तक एक ट्रफ बना हुआ है। मानसून ट्रफ फलौदी, अजमेर, शिवपुरी, सीधी, अंबिकापुर, बालासाेर से हाेकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। इन तीन मौसम प्रणालियाें के कारण रुक-रुककर बारिश हाे रही है।28 जुलाई को नए पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से अरब सागर से नमी आएगी और मानसून ट्रफ लाइन अपनी सामान्य स्थिति में आएगी, जिसकी वजह से ग्वालियर में फिर से वर्षा की स्थिति बनेगी28 जुलाई से अगले पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने की संभावना है। अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिसके चलते नमी में कमी आ गई है और मानसून ट्रफ लाइन शिवपुरी की ओर खिसक गई है।वही पूर्वी राजस्थान के ऊपर चक्रवातीय घेरा बनने से पश्चिमी मध्य प्रदेश प्रभावित हो रहा है। गुना-अशोकनगर से लेकर मालवा-भोपाल की ओर वर्षा हो रही है।28 जुलाई को एक्टिव होने वाले नया पश्चिमी विक्षोभ से ग्वालियर में फिर से वर्षा की स्थिति बनेगी।

बादल फटने से लाहौल के दरेड़ और तोजिंग नाले में आई बाढ़ से एक पुलिया, दो बाइक सहित 70 मीटर सड़क बह गई। तांदी-उदयपुर-संसारीनाला सड़क यातायात के लिए ठप हो गई। तोजिंग नाले को पार करते समय युवक की बाइक बह गई है। युवक ने बाइक को छोड़ भाग कर अपनी जान बचाई। बाढ़ आने से तोजिंग नाले के आरपार 30 वाहन फंस गए हैं।

उधर, उदयपुर-किलाड़ सड़क पर दरेड़ नाले में बाढ़ से एक पुलिया सहित करीब 70 मीटर सड़क बह गई। तांदी-उदयुपर-संसारीनाला मार्ग तोजिंग तथा दरेड़ नाला में बाढ़ आने से बंद हो गए हैं। भारी बारिश की चेतावनी के बीच कश्मीर घाटी के बांदीपोरा जिले में बादल फटने से चकवाली तुलैल नाले में उफान आ गया। पानी के तेज बहाव की चपेट में आने से हाई स्पीड डीजल से भरा टैंकर पलट गया। बारिश से रामबन जिले के मेहाड़ और कैफेटेरिया मोड़ पर भूस्खलन से जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बुधवार दस घंटे बंद रहा। मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।