मोहन भागवत ने सरकार को दी सलाह, जनसंख्या की नीति पर करें काम

0

नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की लड़ाई में अहम भूमिका निभाने वाले आरएसएस ने अब अगली योजना पर काम शुरु कर दिया है। इसी बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के मुताबिक उनका अगला मिशन अब दो बच्चों का कानून होगा।

बरेली में मोहन भागवत ने कहा ‘मुझ से पूछा गया कितने बच्चे हों, मैंने कहा सरकार और सब तय करें, नीति बने, अभी पता नहीं, जनसंख्या समस्या और समाधान दोनों है’। उन्होंने कहा कि संघ को समाप्त करने वाले खुद समाप्त हो गए। संघ प्रमुख ने कहा कि ‘हम भारत की कल्पना कर रहे हैं, भविष्य का भारत तैयार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि साल 1940 से पहले तक समाजवादी, कम्युनिस्ट और अन्य सभी राष्ट्रवादी थे। साल 1947 के बाद बिखरे थे। संघ प्रमुख ने कहा कि भारत रूढ़ियों और कुरीतियों से पूरी तरह मुक्त हो, 7 पापों से दूर रहे और वैसा हो जैसा गांधीजी ने कल्पना की थी। उन्होंने कहा कि देश के संविधान में भविष्य के भारत की कल्पना की गई है।

इससे अलावा संघ प्रमुख ने कहा कि भारतवर्ष में हम सब हिंदू हैं, इसलिए हम हिंदू राष्ट्र हैं। जिनके पूर्वज हिंदू हैं, वह हिंदू हैं। उन्होंने कहा कि हम राम, कृष्ण को नहीं मानते तो कोई बात नहीं। इन सब विविधताओं के बावजूद हम सब हिंदू हैं। हम अपनी संस्कृति से एक हैं, हम अपने भूतकाल में भी एक हैं। उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं, इनका एजेंडा है। हमारा कोई एजेंडा नहीं है, हम संविधान को मानते हैं।