moreसाहित्य

लघु कथा लेखन का संपूर्ण सफरनामा

प्रसिद्ध लघु कथा कार सतीश राठी की कलम से

आज 19 जून 2020 लघुकथा दिवस के रुप में मनाया जा रहा है । आज माधव राव सप्रे का जन्मदिन है और उनके जन्मदिन के प्रसंग में लघुकथा शोध केंद्र भोपाल के द्वारा आज के दिन को लघुकथा दिवस के रूप में घोषित किया गया है । आपको मैं यह बताना चाहूंगा कि इंदौर शहर लघुकथा का सबसे प्रारंभिक और सबसे महत्वपूर्ण स्थान रहा है। डॉ सतीश दुबे का पहला लघुकथा संग्रह ‘सिसकता उजास ‘ वर्ष 1974 में प्रकाशित हुआ था । वीणापत्रिका जो हिंदी साहित्य समिति इंदौर से प्रकाशित होती है, उस पत्रिका में डॉ श्याम सुंदर व्यास ने बतौर संपादक लंबे समय तक लघुकथाओं का प्रकाशन किया है।

लघुकथा की पहली पत्रिका ‘आघात ‘जो बाद में फिर ‘लघु आघात’ के नाम से प्रकाशित हुई, इंदौर शहर से ही प्रारंभ हुई ।उसके प्रणेता डॉ सतीश दुबे रहे और संपादक विक्रम सोनी। अन्य संपादकीय साथियों के रूप में वेद हिमांशु, महेश भंडारी ,चरण सिंह अमी ,सतीश राठी, राजेंद्र पांडेय आदि लोग रहे। कालांतर में यह पत्रिका जब बंद हो गई तो ‘क्षितिज ‘संस्था की स्थापना हुई और लघुकथा की पत्रिका के रूप में ‘क्षितिज’ पत्रिका का प्रकाशन प्रारंभ हुआ ,जो आज भी सतत जारी है ।

अपने शहर के दिवंगत लघुकथाकारों का जिक्र करने के पहले मैं मालवा निमाड़ के लघुकथा के पितृपुरुष पद्मश्री दादा राम नारायण उपाध्याय का जिक्र करना चाहूंगा जिन्होंने लघुकथा को बहुत स्नेह प्रदान किया है । मध्य प्रदेश के परिदृश्य में उस समय पद्मश्री दादा रामनारायण उपाध्याय लघुकथाएं लिखते रहे हैं। दादा का जब मैंने एक साक्षात्कार लिया था ,तब उनसे लघुकथा की लंबी बातचीत हुई । क्षितिज के लिए यह महत्वपूर्ण भी है कि, उसके आयोजनों में दादा के साथ विष्णु प्रभाकर, मालती जोशी जैसे लोग इंदौर आकर शामिल हुए । क्षितिज के 35 वर्ष के सफर पत्रिका में विस्तार से इन बातों का उल्लेख है। मध्य प्रदेश की लघुकथा परंपरा इतनी समृद्ध है कि खंडवा के श्रद्धेय माखनलाल चतुर्वेदी का नाम भी लघुकथा के साथ जुड़ा हुआ है ।

इंदौर शहर एक ऐसा शहर रहा जो लघुकथा को बहुत प्रेम करता था। उस समय में निरंजन जमीदार के द्वारा मालवी में भी लघुकथाएं लिखी गई ।चंद्रशेखर दुबे इंदौर के प्रमुख लघुकथाकार के रूप में रहे। डॉ सतीश दुबे ने अपना पूरा जीवन एक प्रकार से लघुकथा के लिए ही समर्पित किया। क्षितिज के साथी सुरेश शर्मा भी लघुकथा के लिए बहुत सक्रिय रहे । बुजुर्ग जीवन की लघुकथाओं का उनका एक संग्रह बहुत चर्चा में रहा। आज जब हम अपने सारे दिवंगत लघुकथाकार साथियों का स्मरण कर रहे हैं ,तो यह देख रहे हैं कि एक लंबी कड़ी इंदौर की रही है।रमेश सिंह छाबड़ा’ अस्थिवर’ एक पत्रिका शब्दवर का संपादन करते थे। हरसिद्धि पुल के पास उनका टेंट हाउस था और वहां से सारी साहित्यिक गतिविधियां वह संचालित करते रहे ।

मैं स्वयं वर्ष 1977 से लघुकथा के इस आंदोलन से संलग्न रहा हूं और उस समय की सारी घटनाओं का साक्षी भी ।जब भी वीणा कार्यालय जाना होता, डॉ व्यास ऊपर कार्यालय में बुला लेते और आगे होकर कहते,: राठी लघुकथा भेजो वीणा में छापना है’। इतने सहज और सरल व्यक्तित्व इसी प्रकार डॉ सतीश दुबे सदैव लघु कथाएं लिखने के लिए प्रेरित करते रहे वह मेरे लघुकथा गुरु रहे ।चंद्रशेखर दुबे जब भी मिलते अपनी कोई नई लघुकथा सुना देते। साहित्य संगम संस्था की निरंजन जमीदार के यहां पर जब गोष्ठी होती तो वह अपनी कोई लघुकथा जरूर सुनाते । विक्रम सोनी पर लघुकथा एक जुनून की तरह हावी थी। उन्होंने निरंतर लघुकथाएं लिखी भी और पत्रिका को भी बड़े मन से निकाला। बाद में अलग बात है कि वे इस विधा से बहुत दूर हो गए। एक और व्यक्ति का नाम यहां पर लेना चाहूंगा अरविंद नीमा। शारीरिक रूप से विकलांग लेकिन मन से बहुत ही सशक्त। शरीर का धड़ काम नहीं करता था, लेकिन मस्तिष्क सजग और सक्रिय ।आकाशवाणी के हवामहल के लिए निरंतर नाटक लिखा करते थे। लघुकथाओं के क्षेत्र में उन्होंने बड़ा काम किया है। अपनी आजीविका के लिए घर पर सीए के छात्रों को भी पढ़ाया करते थे। उसी दौर में भोपाल से कृष्ण कमलेश भी लघुकथा को लेकर बहुत उत्साहित रहे और उन्होंने इस विधा के लिए बहुत काम किया। रेखा कारडा इंदौर से लघुकथा कार के रूप में रही।

जिन दिनों क्षितिज पत्रिका का प्रारंभ हुआ उन दिनों गंज बासौदा से पारस दासोत का भी बहुत नाम चर्चा में था। उन्होंने ना सिर्फ लघुकथा पर 14 से अधिक किताबें लिखी हैं ,अपितु क्षितिज के तकरीबन समस्त अंकों में आवरण पारस दासोत ने हीं प्रदान किया है और वह भी निशुल्क। उस समय प्रकाशन के संसाधन बहुत सीमित और बहुत श्रम साध्य थे ।तकनीक बहुत पुरानी फिर भी मेहनत के साथ लघुकथा की जमीन बनाने का काम इंदौर के लघुकथाकारों ने किया जब आपके पास कोई साधन संपन्नता ना हो, और विधा को प्रकाशन माध्यम इतना महत्व नहीं देते हों उस वक्त में लघुकथा के लिए लड़ाई करना और उसे एक विधा तक लाने का काम करने में क्षितिज संस्था के साथी भी कभी पीछे नहीं रहे।

आज दिन दिवंगत लघुकथाकारों की लघुकथाओं का प्रस्तुतीकरण किया जा रहा है वह सभी लघुकथाकार विधा के लिए नीव के पत्थर रहे हैं। हम इन्हें प्रणाम करते हुए आज लघुकथा दिवस के प्रसंग पर इनकी लघुकथाएँ प्रस्तुत कर रहे हैं ।इस प्रस्तुति में इन दिवंगत लघुकथाकारों की एक लघुकथा उनके चित्र के साथ प्रस्तुत की जा रही है। उन लघुकथाओं को पढ़ने से हमारे नवोदित लेखकों को निश्चित रूप से इस विधा की ताकत का एहसास होगा।

इसके साथ में एक और महत्वपूर्ण सूचना यह है कि, क्षितिज संस्था एवं अनुध्वनि स्टूडियो के द्वारा संयुक्त रूप से निर्मित क्षितिज के आयोजनों से संबंधित एक वीडियो यहां पर प्रस्तुत किया जा रहा है। यह वीडियो इंदौर शहर की धड़कन को प्रस्तुत करता है और शहर में लघुकथा की विकास यात्रा को रेखांकित करता है। निश्चित रूप से यह वीडियो भी आप सब पसंद करेंगे ऐसा मेरा विश्वास है ।साथी अंतरा करवड़े के द्वारा इससे बहुत मेहनत के साथ बनाया गया है। इंदौर शहर वर्तमान में भी अपनी पूरी लगन और ताकत के साथ लघुकथा विधा को गुणवत्ता पूर्ण तरीके से आगे और आगे ले जाने का काम कर रहा है। क्षितिज संस्था के माध्यम से इंदौर के बहुत सारे लघुकथाकार इस कार्य में संलग्न हैं। निश्चित रूप से आने वाला वक्त लघुकथा के लिए बहुत ही उज्जवल है।