हिदूं धर्म में माघ माह का बड़ा महत्व है माघ माह में आने वाले त्यौहार शुभ व् फलदाई होते है ऐसे में माघ में पड़ने वाली मौनी अमावस्या का विशेष महत्व है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करना बहुत शुभ माना जाता है. ज्योतिषाचार्य के मुताबिक इस साल मौनी अमावस्या पर 30 सालों बाद विशेष योग बन रहा है. इस शुभ योग में पवित्र नदियों में स्नान करने के बाद दान करने से जानें-अनजानें में किए गए पाप नष्ट हो जाते हैं. आइए जानते हैं कब है मौनी अमावस्या और इस दिन स्नान-दान के लिए कौन सा मुहूर्त शुभ है.

कब है मौनी अमावस्या (mauni amavasya)

इस साल माघ माह की मौनी अमावस्या 21 जनवरी 2023 दिन शनिवार को मनाई जाएगी. शनिवार के दिन मौनी अमावस्या पड़ने से इस साल की मौनी अमावस्या बेहद खास रहने वाली है.क्युकी शनिवार को पड़ने वाली अमावस्या को शनिश्चरी अमावस्या के रूप में भी देखा जाता है

इतने सालों बाद बन रहा शुभ योग

ज्योतिषाचार्य की मानें तो इस साल मौनी अमावस्या पर 30 साल बाद विशेष संयगो बन रहा है. हिंदू पंचांग के अनुसार इस साल मौनी अमावस्या यानी 21 जनवरी को खप्पर योग बन रहा है. साथ ही इस दिन शनिवार का दिन है. इस शुभ योग में कुंडली के शुभ प्रभाव को बढ़ाने और शनि के दोष को दूर करने के लिए पूजा करना अत्यंत शुभ माना जाता है. बता दें कि मौनी अमावस्या के दिन शनि शनि के कुंभ राशि में, सूर्य और शुक्र के मकर राशि में युति से खप्पर योग का निर्माण हो रहा है. इस शुभ योग में आप पवित्र नदी में स्नान करने के बाद शनिदेव की आराधना करते हुए शनि के दुष्प्रभाव को दूर कर सकते हैं.

पूजा विधि

मौनी अमावस्या के दिन सूर्योदय से पहले उठकर पवित्र नदी में स्नान करें. यदि ऐसा संभव नहीं हो तो आप घर के पानी में ही गंगाजल मिलाकर स्नान करें. कोशिश करें की मौनी अमावस्या के दिन बिना कुछ बोले स्नान करें. मौनी अमावस्या के दिन बिना बोले स्नान करने से महापुण्य की प्राप्ति होती है. इस दिन स्नान करने का शुभ मुहूर्त सूर्योदय से लेकर पूरे दिन रहेगा.

Also Read : Live darshan: देश भर के मंदिरों के दर्शन लाइव