Indore Cyber Crime : ऑनलाइन ठगी का शिकार हुए कई नागरिक, क्राइम ब्रांच ने शुरू की धरपकड़

पुलिस आयुक्त नगरीय इंदौर हरिनारायणचारी मिश्र (Harinarayanchari) द्वारा इंदौर कमिश्नरेट में लोगों से छलकपट कर अवैध लाभ अर्जित करते हुए आर्थिक ठगी करने वाले एवं सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट बनाकर अपातिजनक पोस्ट व हैकिंग करने वाले अपराधियों की पहचान कर विधिसंगत कार्यवाही करते हुए

Indore Crime Branch
Indore Crime Branch

इंदौर(Indore): पुलिस आयुक्त नगरीय इंदौर हरिनारायणचारी मिश्र (Harinarayanchari) द्वारा इंदौर कमिश्नरेट में लोगों से छलकपट कर अवैध लाभ अर्जित करते हुए आर्थिक ठगी करने वाले एवं सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट बनाकर अपातिजनक पोस्ट व हैकिंग करने वाले अपराधियों की पहचान कर विधिसंगत कार्यवाही करते हुए उनकी धरपकड़ करने हेतु प्रभावी कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं।

उक्त निर्देशों के अनुक्रम में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) राजेश हिंगणकर के मार्गदर्शन में पुलिस उपायुक्त (क्राइम ब्रांच) निमिष अग्रवाल एवं अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (क्राईम ब्राँच) गुरू प्रसाद पाराशर द्वारा ऑनलाईन ठगी एवं सोशल मीडिया संबंधी अपराधो की रोकथाम हेतु क्राइम ब्रांच फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन टीमों को लगाया गया है। क्राइम ब्रांच इंदौर पुलिस द्वारा संचालित cyber helpline पर प्राप्त शिकायतों में क्राइम ब्रांच फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन टीम द्वारा शिकायतकर्ताओं से फ्रॉड की जानकारी लेकर जांच की जिसमे ज्ञात हुआ।

1.आवेदिका अर्पिता निवासी इंदौर द्वारा अपने ICICI बैंक खाते में UPI सेवा चालू नहीं होने पर आवेदिका द्वारा गूगल पर कस्टमर केयर नंबर सर्च करते ठग से संपर्क हुआ जिसने आवेदिका को झूठ बोलते हुए बैंक kyc अपडेट करने का बोलते हुए आवेदिका के debit card की जानकारी व ओटीपी लेकर आवेदिका के साथ 50,000 की ठगी की गई एवं ठगी राशि को फ्लिपकार्ट पर शॉपिंग के लिए उपयोग किया गया जिसपर क्राइम ब्रांच टीम द्वारा ICICI बैंक और फ्लिपकार्ट से संपर्क कर 50,000 आवेदिका के बैंक खाते में सकुशल वापस कराएं।

Read More : Sri Lanka Crisis: श्रीलंका में बढ़ा आर्थिक संकट, भारत ने बढ़ाया मदद का हाथ

2.आवेदिका धर्मेंद्र निवासी इंदौर द्वारा अपने यूनियन बैंक खाते की KYC update करने के लिए गूगल पर कस्टमर केयर नंबर सर्च करते ठग से संपर्क हुआ, ठग द्वारा आवेदक के debit card की जानकारी व ओटीपी लेकर आवेदक के साथ 7,000 की ठगी की गई एवं ठगी राशि को फ्लिपकार्ट पर शॉपिंग के लिए उपयोग किया गया जिसपर क्राइम ब्रांच टीम द्वारा यूनियन बैंक और फ्लिपकार्ट से संपर्क कर 7,000 आवेदक के बैंक खाते में सकुशल वापस कराएं।

3. आवेदक समीर निवासी इंदौर द्वारा जनरेटर खरीदने के लिए गूगल पर सर्च करते ठग से संपर्क हुआ जिसने आवेदक को झूठ बोलते हुए जनरेटर के लिए एडवांस पेमेंट करने के नाम से आवेदक के बैंक ऑफ बड़ौदा से लिंक फोन–पे के माध्यम से 01 लाख रुपए की ठगी कर SBI bank के किसी अन्य खाते में ट्रांसफर कर दिए जिसपर क्राइम ब्रांच टीम द्वारा SBI बैंक से संपर्क कर 01 लाख रुपए आवेदक के बैंक खाते में सकुशल वापस कराएं।

Read More : Chaitra Navratri : फूलों से सजा मां चामुंडा और मां तुलजा भवानी का भवन, भक्तों की लगी भीड़

4.आवेदक अविनाश निवासी इंदौर द्वारा गूगल पर sbi bank का कस्टमर केयर नंबर सर्च करते ठग व्यक्ति से संपर्क हुआ जिसके द्वारा आवेदक को रिवार्ड प्वाइंट अन्य सर्विस के झूठे लाभ बताकर Any Desk App डाउनलोड करवाकर आवेदक के मोबाइल को एक्सेस कर आवेदक के क्रेडिट कार्ड से 23,735/– रुपए आहरित कर paytm वॉलेट में ट्रांसफर कर ठगी की गई थी जिसपर क्राइम ब्रांच टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही कर paytm बैंक से संपर्क कर आवेदक के खाते में 23,735/– रुपए सकुशल वापस कराए।

आमजन को सूचित किया जाता है की इंटरनेट पर किसी बैंक या कंपनी का कस्टमर केयर या हेल्पलाइन सर्च करते जल्दबाजी में विश्वास न करे एवं सही नंबर की जांच जरूर करे साथ ही अनजान व्यक्ति के द्वारा कॉल या मैसेज के माध्यम से आपकी बैंक संबंधि जानकारी मांगने पर कभी किसी से शेयर ना करे। अन्यथा आप भी ठगी का शिकार हो सकते है, इस तरह की घटना की सूचना तुरंत अपने नजदीकी थाने पर दे या क्राइम ब्रांच इंदौर पुलिस द्वारा संचालित सायबर हेल्पलाइन नं. 704912-4445 पर सूचित करे।