मकर संक्रांति हिंदुओं का सबसे महत्वपूर्ण पर्वों में से एक है। मकर संक्रांति का जितना धार्मिक महत्व है, उतना ही वैज्ञानिक महत्व है। दरअसल, ऐसा कहा जाता है कि जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तो मकर संक्रांति का योग बनता है, लेकिन इसके अलावा भी कई सारे बदलाव आते हैं। मकर संक्रांति का संबंध केवल धर्म से ही नहीं, बल्कि अन्य चीजों से भी जुड़ा है, जिसमें वैज्ञानिक जुड़ाव के साथ-साथ कृषि से भी जुड़ाव रहता है। मकर संक्रांति पर खिचड़ी का बहुत बड़ा महत्व है. चावल और काली उड़द की दाल से मिलकर बनने वाली खिचड़ी की शनि संबंधी दोष को दूर करती है. इससे जुड़ी और भी मान्यताएं हैं. इस दिन घर आए मेहमानों को खिचड़ी, दही-चूड़ा, तिलकुट वगैरा-वगैरा खिलाया जाता है.वैसे तो हर कोई अपने-अपने अंदाज में खिचड़ी बनाता है लेकिन आज हम आपको एक बहुत ही स्पेशल उड़द दाल की खिचड़ी की रेसिपी बताने जा रहे हैं जिसे खाने के बाद सच में स्वाद आ जाएगा. मेहमान आपकी तारीफ करते नहीं थकेंगे आइये आपको बताते हैं इसकी लज़ीज रेसिपी।

आवश्यक सामग्री

चावल, उरद की दाल: 1/4 कप, हरी मटर: 1/2 कप, दालचीनी: 1 टुकड़ा, लौंग: 2, काली मिर्च:5, बड़ी इलाइची:1/2, जीरा : 1/2 छोटी चम्मच, अदरक: 1/2 इंच, हरी मिर्च: 1 से 2, टमाटर: 1, घी : 2 बड़ी चम्मच, हींग: 1/2 चुटकी, हल्दी पाउडर: 1/4 छोटी चम्मच, लाल मिर्च पाउडर: 1/4 छोटी चम्मच,नमक : स्वादानुसार

उड़द दाल खिचड़ी बनाने की विधि

उड़द दाल की खिचड़ी बनाने के लिए कुकर में दो से तीन बड़ी चम्मच घी डाल कर गरम कर लीजिए.

घी गर्म हो जाने पर जीरा, हींग,दालचीनी, लौंग काली मिर्च, बड़ी इलायची डालकर चटकने दीजिए.

मसाला हल्का सा भुन जाने पर इसमें एक टमाटर छोटी चम्मच हल्दी पाउडर, हरी मिर्च, अदरक, हरी मटर, डालकर भून लीजिए.

टमाटर के हलका सा गल जाने पर इसमें उड़द दाल और चावल डालकर मिला लीजिए.

अब इसमें लाल मिर्च पाउडर,नमक डालकर सभी चीज को मिलाते हुए 2 से 3 मिनट तक भून लीजिए.

2 मिनट बाद कुकर में सामग्री के हिसाब से पानी डालकर कुकर का ढक्कन लगाकर एक सीटी आने तक तेज आंच पर पका लीजिए.

कुकर में सीटी आने पर आंच को बंद कर दीजिए और कुकर का प्रेशर खत्म होने तक इसे ऐसे ही रहने दीजिए.

अब कुकर के ढक्कन को कुकर के ऊपर रखकर चावल को हल्का ठंडा होने के लिए रख दीजिये .

चावल के हल्का ठंडा होने पर  इसको प्लेट में निकाल कर सर्व कर सकते हैं.

उड़द दाल की खिचड़ी आप किसी भी चटनी अचार के साथ खा सकते हैं.

Also Read : Live Darshan : कीजिए देश भर के प्रमुख मंदिरों के दर्शन