मध्यप्रदेश में बना लो प्रेशर एरिया, इंदौर-भोपाल में जारी हुआ भारी बारिश का अलर्ट

मध्यप्रदेश में मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया है। प्रदेश में अगले 4 दिन तक इंदौर समेत अति भारी बारिश होगी।

monsoon in MP

मध्यप्रदेश में मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी कर दिया है। प्रदेश में अगले 4 दिन तक इंदौर समेत अति भारी बारिश होगी। MP के मध्य में लो प्रेशर एरिया बनने से भारी बारिश हो रही है। नए सिस्टम के कारण मध्यप्रदेश मानसून का केंद्र बन गया है। भोपाल में 7 व 8 जुलाई का अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार ग्वालियर, चंबल और बघेलखंड के कुछ हिस्सों को छोड़ दिया जाए, तो अधिकांश इलाकों में भारी बारिश का अनुमान है। इंदौर में मंगलवार को हुई कुछ घंटों में 4 इंच बारिश हो गई, साथ ही कई इलाकों में नदी-नाले उफान पर आने से कई मार्ग भी बंद हो गए हैं।

उज्जैन और इंदौर में लगातार बारिश के बाद शिप्रा का जलस्तर बढ़ता जा रहा है। शिप्रा नदी के घाटों पर बने मंदिर डूबने लगे हैं। वहीं बड़नगर को जोड़ने वाला छोटा पुल भी शिप्रा नदी में जलस्तर बढ़ने से डूब गया है। जिससे आवागमन प्रतिबंधित हो रहा है हालांकि बड़नगर जाने के लिए बड़े पुल से घूम कर पहोचा जा सकता है

Also Read – क्या है हरतालिका तीज का महत्व, जानिए शुभ महूर्त, पूजा विधि 

नदी-नालों में बाढ़ के हालात

बीते 24 घंटों की बात करें, तो मध्यप्रदेश के कई जिलों में नदी-नालों के उफान पर आ गए। भोपाल में सोमवार की बारिश ने आधे से ज्यादा शहर को जलमग्न कर दिया, तो इंदौर में सीजन में पहली बार इतनी बारिश में ने हालात बिगाड़ दिए। सुखतवा नदी के नए पुल पर डेढ़ फीट पानी आने से भोपाल-इंदौर हाईवे तक बंद हो गया। हरदा में अजनलाल नदी ने कहर बरपाया। इससे होशंगाबाद-खंडवा स्टेट हाईवे बंद हो गया। उज्जैन में सड़कों में पानी ओवरफ्लो हो गया। राजगढ़ में बिजली गिरने से एक की मौत हो गई, तीन लोग झुलस गए। छिंदवाड़ा में जुन्नारदेव नदी भी उफान पर रही

नए सिस्टम का प्रभाव

मौसम विभाग द्वारा भोपाल में लगे डॉप्लर के अनुसार मध्यप्रदेश के मध्य में लो प्रेशर एरिया बन गया है। इसके साथ ही राजस्थान से मध्यप्रदेश होते हुए बंगाल की खाड़ी तक ट्रफ लाइन जा रही है। इससे ही मध्यप्रदेश मानसून का केंद्र बनने से इंदौर जैसे अधिकांश इलाकों में तेज बारिश हो रही है। इसके कारण राजगढ़, रायसेन, मंदसौर, रतलाम, झाबुआ, अलीराजपुर, नीमच, भोपाल, विदिशा, श्योपुरकलां, आगर, सिंगरौली, उज्जैन, बड़वानी, धार, माण्डू और पचमढ़ी में सबसे ज्यादा बादल छाए हुए हैं।
प्रदेश में सबसे ज्यादा बारिश इंदौर में दर्ज की गई यहाँ करीब 4 इंच तक हो गई। इसके अलावा खंडवा में ढाई इंच, पचमढ़ी में ढाई इंच, उज्जैन और रतलाम में 2-2 इंच, धार में डेढ़ इंच, खरगोन, बैतूल में आधा-आधा इंच, भोपाल, नर्मदापुरम, छिंदवाड़ा, मंडला और राजगढ़ में बारिश हुई।