अवतार लेकर विभिन्न रूपों में लीलाएं की भगवान श्रीकृष्ण ने : डॉ वसन्तविजयजी म.सा.

0
20

इंदौर: कृष्णगिरी पीठाधिपति, यतिवर्य, विश्व शांतिदूत डॉ वसन्तविजयजी म.सा. ने शुक्रवार को कहा कि धरती को पापों से मुक्त करने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने अवतार लेकर विभिन्न रूपों में कई लीलाएं की। लीलाओं के धनी भगवान श्री कृष्ण की हर लीला प्राणी के कल्याण के लिए भी होती है। यहां नगीन भाई कोठारी चेरिटेबल ट्रस्ट के तत्वाधान में ह्रींकारगिरी तीर्थ धाम में दिव्य भक्ति चातुर्मास कर रहे डॉ वसन्तविजयजी म.सा. ने यह बातें प्रवचन में कही।

उन्होंने कहा कि प्रेम का संदेश देने वाले भगवान श्रीकृष्ण ने जो भी गीत बनाया, गीता बनके जग पर छा गया। उन्होंने यह भी कहा कि सृष्टि का सबसे बड़ा संगीतकार कृष्णा है। आयोजन से जुड़े विजय कोठारी, वीरेंद्र कुमार जैन ने बताया कि आज सुबह के सत्र में संतश्री वज्रतिलक जी की निश्रा में सामूहिक व प्रतिक्रमण भक्तामर स्तोत्र का मन्त्र जाप किया गया। ट्रस्टी जय कोठारी ने बताया कि धाम में ही प्रतिष्ठापित मूलनायक परमात्मा पार्श्वनाथजी की प्रतिमा का विधिकारक हेमन्त वेदमूथा मकशी द्वारा 50 दिवसीय 18 अभिषेक विधान शुक्रवार को भी जारी रहा। लाभार्थी प्रफुलचंद्र जैन परिवार रहा। शाम के सत्र में संगीतमय भजनों की भक्ति का कार्यक्रम आयोजित किया गया। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here