मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के तहत हितग्राहियों को लाभ वितरण करने का संभाग स्तरीय कार्यक्रम 14 दिसंबर यानि आज खरगोन में आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में इंदौर संभाग के सभी ज़िलों के चयनित हितग्राहियों को मुख्यमंत्री द्वारा लाभान्वित किया जाएगा। इंदौर संभाग के विभिन्न जिलों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जन्म वर्षगाँठ 17 सितंबर से 31 अक्टूबर की अवधि में संचालित मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में पात्र हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र प्रदान किए जा रहे हैं। इंदौर संभाग के सभी जिलों में 14 दिसंबर को जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति में चिन्हित हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र प्रदान किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में इंदौर संभाग के बड़वानी ,धार, खरगोन, खंडवा, झाबुआ, अलीराजपुर और इंदौर जिलों में हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र वितरण कार्यक्रमों की तैयारियों की जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रमों में जन-प्रतिनिधियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि योजनाओं के लिए पात्र हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्रों का वितरण गरीबों की महत्वपूर्ण सेवा है। आगामी माह तक चिन्हित हितग्राहियों को योजनाओं से लाभान्वित करने का कार्य किया जाए।

कार्यक्रम का लाइव प्रसारण नीचे दी गई लिंक पर देखा जा सकता है

Also Read – भाजपा सरकार की नीतियों के आलोचक रहे रघुराम राजन ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में हुए शामिल, राहुल के साथ की पदयात्रा

जानकारी के लिए बता दें 12 दिसंबर को संभागायुक्त पवन कुमार शर्मा द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की गई थी। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक राकेश कुमार गुप्ता, डीआईजी चंद्रशेखर सोलंकी सहित सभी ज़िलों के कलेक्टर उपस्थित थे। कलेक्टर खरगोन कुमार पुरुषोत्तम ने बताया था कि मुख्यमंत्री का कार्यक्रम कलेक्टर कार्यालय के निकट मेला ग्राउंड में होगा। मुख्यमंत्री के दोपहर बाद 1 बजे आने का कार्यक्रम प्रस्तावित है। इस कार्यक्रम का प्रसारण वेब कास्टिंग के माध्यम से संभाग के अन्य ज़िलों में भी किया जाएगा।

बैठक में संभागायुक्त पवन कुमार शर्मा ने इंदौर संभाग के विभिन्न ज़िलों में पेसा एक्ट के तहत प्रगति की भी समीक्षा भी की थी। विभिन्न कलेक्टरों द्वारा बताया गया था कि पेसा एक्ट के लिए अधिसूचित क्षेत्रों के गांवों में ग्राम सभाओं का आयोजन किया जा रहा है। विभिन्न तरह की 5 समितियों का गठन किया जा चुका है।