आचार संहिता के फेर में फंसे कपिल मिश्रा, चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

0
Kapil Mishra

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने मैदान पकड़ लिया है। यहां आम आदमी पार्टी, भाजपा और कांग्रेस में मुख्य मुकाबला है। चुनाव के लिए नामांकन भरने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद स्क्रूटनी की जा रही है। नाम वापसी लेनी की अंतिम तारीख 24 जनवरी है।

इसी बीच पार्टियों के उम्मीदवारों ने अपना प्रचार शुरु कर दिया है और विपक्षी पार्टी नेताओं ने भी हमले तेज कर दिए हैं। इसी बीच भाजपा प्रत्याशी कपिल मिश्रा एक ट्वीट कर चुनाव आयोग के फेर में फंस गए हैं। दरअसल कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया था कि 8 फरवरी को दिल्ली की सड़कों पर भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबला होगा। इस ट्वीट के बाद चुनाव आयोग के चुनाव आयोग ने कपिल से रिपोर्ट मांगी है।

चुनाव आयोग में कपिल मिश्रा के खिलाफ शिकायत दाखिल की गई है जिसमें कहा कि कपिल मिश्रा का मॉडल टाउन से गलत नामांकन पत्र स्वीकार किया गया है। शिकायत कर्ता ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कपिल मिश्रा का नामांकन तुरंत रद्द करने की मांग की है। बात करें कपिल मिश्रा की तो वे भाजपा से पहले आप में मंत्री रह चुके हैं। एक समय पर कपिल केजरीवाल के बेहद करीबी माने जाते थे, लेकिन किसी विवाद के कारण वे आप से अलग हो गए और भाजपा में आ गए।