Kaal Bhairav ​​Jayanti : काल भैरव की पूजा अर्चना से इन दोषों से मिलती है मुक्ति, राहु दोष होता है दूर

Kaal Bhairav ​​Jayanti : मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर काल भैरव जंयती मनाई जाती है। इस जयंती को बेहद खास माना जाता है।

Kaal Bhairav Jayanti 2021:

Kaal Bhairav ​​Jayanti : मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर काल भैरव जंयती मनाई जाती है। इस जयंती को बेहद खास माना जाता है। कहा जाता है कि इस दिन काल भैरव भगवान का अवतरण हुआ था। ऐसे में काल भैरव काे भगवान शिव का रूद्र रुप बताया गया है। बता दे, मार्गशीर्ष मास कृष्ण पक्ष अष्टमी का आरंभ 27 नवंबर, शनिवार को सुबह 05 बजकर 43 मिनट से लेकर मार्गशीर्ष मास कृष्ण पक्ष अष्टमी का समापन 28 नवंबर, रविवार को प्रातः 06:00 बजे होगा।

मान्यताओं के अनुसार, भगवान शिव के अंश से भैरव की उत्पत्ति अष्टमी वाले दिन हुई थी। ऐसे में इनका जन्म माता के गर्भ से नहीं हुआ। इसलिए इन्हे अजन्मा माना जाता है। भगवान काल भैरव को दंडावती भी कहा जाता है। कहा जाता है कि देवी के 52 शक्तिपीठों की रक्षा भी काल भैरव अपने 52 स्वरूपों में करते हैं। ऐसे में खास बात ये है कि इस साल आ रही काल भैरव की जयंती पर पदम नामक योग बन रहा है।

Must Read : Indore : इन 6 स्तंभों के आधार पर होगी स्वच्छता में छक्का लगाने की तैयारी 

कामनाएं पूर्ण होती है। काल भैरव का नाम उच्चारण, मंत्र, जाप, स्त्रोत, आरती, इत्यादि का फल तत्काल मिलता है। बजरंग बली के बाद काल भैरव की पूजा उपासना ही तत्काल प्रभाव को देने वाली बताई गई है।

इन ग्रहों से मिलेगी मुक्ति –

काल भैरव राहु, केतु, शनि की पीड़ा से मुक्ति दिलाते हैं। मान्यताओं के अनुसार काल भैरव को शनि का अधिपति देव बताया गया है और शनि पीड़ा से मुक्ति के लिए एवं राहु ,केतु से प्राप्त हुई पीड़ा और कष्ट की मुक्ति के लिए भैरव उपासना से बढ़कर कोई दूसरा उपाय नहीं है।