क्या महाराष्ट्र मंत्रालय के कमरा नंबर 602 में भूत प्रेत का साया है

0

मुंबई: महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार बन चुकी है. मंत्रिमंडल विस्तार भी हो गया है. अब बस विभागों का बंटवारा बचा है. इन सभी तमाम खबरों के बीच एक ऐसी खबर सामने आ रही है, जिसे सुनकर हर कोई सोच में पढ़ गया है. मुंबई में स्थित महाराष्ट्र सरकार के मंत्रालय में सभी मंत्रियों को दफ्तर देने का काम शुरू कर दिया गया है. लेकिन मंत्रालय की छठीं मजिल पर स्थित एक कमरे को कोई भी मंत्री लेना नहीं चाहता.

दरअसल, इस मंत्रालय की छठीं मंजिल पर स्थित यह कमरा करीब तीन हजार वर्ग फीट का है. उस छठीं मजिल पर एक कांफ्रेंस रूप, ऑफिस स्टाफ हॉल और दो बड़े केबिन मौजूद हैं. राजनीतिक तौर पर अन्य मंत्रियों का ऐसा कहना है कि इस कमरे को पहले राज्य की सत्ता का पवार सेण्टर कहा था. पहले यहां पर सीएम, सबसे बड़ा मंत्री या मुख्य सचिव बैठते थे.

इस दफ्तर में अब इसीलिए कोई नहीं बैठना चाहता क्योंकि यह अंधविश्वास है कि यहां जो भी बैठता है वह अपने राजनीतिक जीवन में कभी सफल नहीं हो पाता है. ऐसा कहा जाता है कि इस कमरे में जो भी बैठता है वह अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाता. साल 2014 में बीजेपी के नेता एकनाथ खडसे को यह कमरा दिया गया था. करीब दो साल बाद वह एक घोटाले में फंसे और उन्हें इस्तीफा देना पड़ गया.

सिर्फ खडसे ही नहीं उनके अलावा यहां इस कमरे में नए मंत्री पांडुरंग फुंडकर भी आए थे. लेकिन करीब दो साल काम करने के बाद ही उनकी मौत हार्ट अटैक से हो गई थी. वहीं साल 2019 के बाद से इस कमरे को किसी भी मंत्री ने लेने से मना कर दिया है. फ़िलहाल यह कमरा पूरी तरह खाली है.