आबिद कामदार

Indore। वायु प्रदूषण दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है, और इसका मुख्य कारण गाड़ियों से निकलने वाला धुआं होता है, इंदौर स्वच्छता और खान पान में नंबर वन होने के बाद अब प्रदूषण मुक्त शहर बनने की दौड़ मैं है, इसी कड़ी में शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए एआईसीटीएसएल के 5 से 6 स्टेशन संचालित है, वहीं लगभग 113 चार्जिंग स्टेशन बनाने की तैयारी की जा रही है। शहर में दो पहिया वाहन की संख्या भी काफी ज्यादा है इसी को ध्यान में रखते हुए एआईसीटीएसएल जल्द ही शहर में दो पहिया वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन बनाएगा।

दो पहिया और मैजिक वैन होगी चार्ज

Read More : Paytm Personal Loan: केवल 2 मिनट में मिलेगा 2 लाख तक का लोन, जानें कैसे करें आवेदन

शहर में एआईसीटीएसएल द्वारा इलेक्ट्रिक कार और बसों के लिए 6 से 7 चार्जिंग स्टेशन संचालित है, वहीं दो पहिया वाहन चार्जिंग के लिए भी शहर के अलग अलग स्थानों पर लगभग तीस से चालीस स्टेशन बनाए जायेंगे। इसके लिए जगह और स्टेशन की अन्य सुविधाओं के लिए एआईसीटीएसएल प्लानिंग कर रहा है। जल्द ही शहर में एआईसीटीएसएल इन जगहों पर संभावित रूप से अपने स्टेशन लगाएगा जिसमें पलासिया, विजय नगर, कालानी नगर और अन्य जगह शामिल होंगी। वर्तमान में अन्य प्राइवेट कम्पनी द्वारा यह सुविधा दी जा रही है। लेकिन शहर को कम दरों पर वाहन चार्जिंग स्टेशन मुहैया करवाए जायेंगे।

लगभग 5 से 6 स्टेशन संचालित किए जा रहे है एआईसीटीएसएल द्वारा

एआईसीटीएसएल द्वारा लगभग 5 से 6 चार्जिंग स्टेशन संचालित किए जा रहे है, जिसमें स्लो चार्जर में 6 से 15 किलो वॉट तो फास्ट में 112 वॉट तक के चार्जिंग स्टेशन है।

Read More : आपकी डेली लाइफ की ये आदतें जो लगती हैं छोटी, लेकिन फैलाती हैं बड़ी बीमारियां, कहीं आप भी तो नहीं है इसमें शामिल

फास्ट और स्लो दोनों प्रकार के चार्जर की है सुविधा

शहर में संचालित चार्जिंग स्टेशन की अगर बात की जाए तो, माय मंगेश्कर चार्जिंग स्टेशन पर पर 3 स्लो और 1 फास्ट चार्जर है। जिसमें एक बार में ग्यारह गाडियां चार्ज हो सकती है, वहीं पालिका प्लाजा पर 1 फास्ट, 3 स्लो, एआईसीटीटएसएल में 1 फास्ट 1 स्लो, स्मार्ट सिटी में 2 फास्ट 1 स्लो, और नगर निगम में 2 फास्ट 3 स्लो चार्जर है।

जयादातर 2 प्रकार के चार्जर का इस्तेमाल किया जाता है।

फास्ट चार्जर में बड़े वाहन की पूरी तरह से लो बैटरी को चार्ज करने में 1 से डेढ़ घंटे का समय लगता है, वहीं स्लो चार्जर में छोटे वाहन को चार्ज करने में 5 से 6 घंटे लगते है। इसमें कई प्रकार के चार्जर आते है लेकिन एआईसीटीएसएल द्वारा भारत डीसी 001 ,और सीसीएस टाइप 2 का इस्तेमाल किया जाता है।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बसे ज्यादातर होती है यहां चार्ज

पब्लिक ट्रांसपोर्ट की शहर में बैट्री से चलने वाली बसे ज्यादातर राजीव गांधी, सिलिकॉन सिटी, एआईसीटीएसएल और हवाबंगला स्टेशन पर चार्ज होती है।

जल्द ही मिलेगी 113 चार्जिंग स्टेशन की सौगात

एआईसीटीएसएल ने दो तरह के चार्जिंग स्टेशन के वर्क ऑर्डर दिए है, जिसमें एक ऑर्डर में 76 तो दूसरे में 37 चार्जिंग स्टेशन होंगे। इनकी कागजी कार्यवाही पूर्ण होने के बाद जल्द ही शहर को नए चार्जिंग स्टेशन की सौगात मिलेगी।