नितिनमोहन शर्मा

नाईट लाइफ ओर नाईट कल्चर के नाम से आये दिन शर्मसार करती घटनाओं के खिलाफ अब समूचा इंदौर उठ खड़ा हुआ है। इंदोरियो से स्पष्ट कर दिया कि इंदौर को जबरिया महानगर बनाने वाली गंदगी यहां बर्दाश्त नही की जाएगी। समाज के हर वर्ग ने इस बात पर चिंता जाहिर की कि इन घटनाओं से इंदौर का नाम देशभर में खराब हो रहा है। शहर को शर्मसार करती घटनाओं के खिलाफ कलम की ताकत भी सामने आती जा रही है। ठीक उसी तर्ज पर कि ये किसी एक मीडिया हाउस की लड़ाई नही, वरन शहर के अस्तित्व से जुड़ा विषय है।

सब मिलकर ही इस संकट से पार पा पाएंगे। शहर के प्रबुद्ध वर्ग ने अभ्यास मंडल के बैनर पर एक बड़ी बैठक कर इस विषय पर न केवल विस्तार से चिंतन मन्थन किया बल्कि मन्थन से निकले निष्कर्ष से जिम्मेदारो को हाथों हाथ अवगत भी कराया। प्रेस क्लब में हुई इस बैठक में पालकों की जवाबदेही भी तय की गई। खासकर उन साधन सपन्न लोगो से उम्मीद की है जो अपने नोनिहलो को सुविधाओ से तो लेस कर रहे है लेकिन संस्कारो से महरूम रखे हुए है। ऐसे लोगो से उम्मीद की गई है कि वे अपने बच्चों के खर्चो पर नजर रखे कि कही वे ड्रग के जाल में तो नही उलझ रहे।

पुलिस ने भी सख्त रूख अख्तियार कर लिया है। दो दिन से नाईट लाइफ वाले हिस्से में ज़ोरदार चेकिंग के साथ हुड़दंगियों पर नकेल कसी जा रही है। पुलिस कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र ने भी मैदान पकड़ लिया है। उन्होंने भी महकमे के आला अधिकारियों की एक बड़ी बैठक कर दो टूक कहा दिया कि रात के समय शहर का जो हिस्सा खुला है, वहां का कोई भी पॉइंट पुलिस बंदोबस्त से दूर न हो। इस मूददे पर सांसद शंकर लालवानी ने भी पुलिस कमिश्नर मिश्रा से बात कर महिला सुरक्षा बढ़ाने को कहा।

दूसरी तरफ पुलिस ने भंवरकुआं वाले उस बेल्ट पर अपनी गतिविधियों को बढ़ा दिया जो होस्टल्स, कॉलेज और कोचिंग सेंटर का गढ़ है। टीआई शशिकांत चौरसिया सीधे छात्राओं के बीच जा पहुंचे। उन्होंने इसके लिए कोचिंग क्लासेज जाना ही उचित समझा। छात्राओं से रूबरू होते हुए टीआई ने आश्वस्त किया कि हमे पेरेंट्स मानकर हमसे कोई बात न छुपाए।

आपके साथ अगर कुछ भी गलत होता है या हो रहा है तो बेझिझक बतौर पालक बताए। ऐसा नही करने पर अराजक तत्वों के हौसले बढ़ते है। टीआई ने महिला पुलिसकर्मियो के फ़ोन नम्बर भी छात्राओं को दिए कि कही भी कुछ असहज लगे तो फ़ोन जरूर करे। प्रवासी भारतीय सम्मेलन से पहले शहर में हो रही इस तरह की घटनाओं ने भाजपा को भी चिंता में डाल दिया है। इस मसले पर पार्टी नेता जल्द सीएम से भी बात करने वाले है।

नाईट लाइफ पर भाजपा भी गुस्से में

नाईट लाइफ के जरिये गंदगी परोसते नाईट कल्चर के खिलाफ सत्तारूढ़ दल भाजपा में भी गुस्सा है। सरकार का फैसला होने के कारण कोई भी बड़ा नेता खुलकर सामने नही आ रहा। अलबत्ता वो पार्टी फोरम पर इस मूददे पर बेबाकी से मुखर है। बताते है कि स्वयम नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे भी इसके पक्ष में नही की इंदौर का नाम खराब हो।

पार्टी कार्यलय पर निगम झोन की संख्या में इजाफा करने के लिए बुलाई बैठक में रणदिवे में इस मूददे पर भी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से बात की। सबने एक स्वर में इस कल्चर का विरोध किया। ये चिंता भी जताई कि किसी दिन कोई बड़ी घटना न घटित हो जाये। वैसे भी इंदौर का वातावरण खराब होता जा रहा है। इस पर समय रहते अंकुश जरूरी है। भाजपा नेताओं के रूख को देखते हुए लग रहा है कि नाईट लाइफ का फैसला जल्द रद्द हो सकता है।