इंदौर (Indore News) : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज राज्य स्तरीय वीडियो कॉन्फ्रेसिंग कर कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिये कि सभी जिले अलर्ट रहें। विशेष सावधानी एवं सतर्कता बरतें। यह प्रयास करें कि किसी तरह का भय नहीं हो। मरीजों को किसी भी तरह की परेशानी नहीं हो। उन्होंने कलेक्टर श्री मनीष सिंह से चर्चा कर इंदौर जिले में कोरोना की स्थिति की अद्यतन जानकारी प्राप्त की।

उन्होंने निर्देश दिये कि विशेष सावधानी एवं सतर्कता बरती जाये। हर स्थिति से निपटने के लिये तैयार रहे। सभी संसाधन एवं सुविधाएं अभी से जुटा ली जाये। जिले में सभी व्यक्ति मास्क लगायें यह व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। उन्होंने इंदौर के अस्पतालों में उपलब्ध बेड्स की संख्या, कोविड केयर सेंटरों की व्यवस्था, होम आइसोलेशन सिस्टम आदि के बारे में भी विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन व्यवस्था को ओर अधिक प्रभावी बनाया जाये। ऐसी व्यवस्था की जाये जिससे की मरीज को घर में ही बेहतर इलाज उपलब्ध हो। उसे घर पर ही मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाये। कोरोना को लेकर भय नहीं फैले इसको लेकर विशेष सतर्कता रखी जाये।

बैठक में कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने इंदौर जिले की स्थिति से मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि इंदौर में तेजी से मरीजों की संख्या बढ़ रही है। कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन सुनिश्चित कराने के लिये लगातार जन जागरण अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर में गत वर्ष जिले में लगभग साढ़े सात हजार बेड्स थे, उसे बढ़ाकर अब दस हजार से अधिक बेड्स कर दिये गये है। जिले में पर्याप्त संख्या में बेड्स है।

कोविड केयर सेंटरों की भी विकेद्रीकृत व्यवस्था की जा रही है। हर विकासखण्ड और बडे़ स्थानों पर कोविड केयर सेंटर बनाये गये है। इन सेंटरों में लगभग 2500 बेड्स है। ऑक्सीजन की भी पर्याप्त व्यवस्था है। होम आईसोलेशन के मरीजों के घरों पर ही इलाज उपलब्ध कराने के लिये समुचित इंतजाम किये गये है।

होम आइसोलेशन के मरीजों से सतत संपर्क में रहने और उन्हें चिकित्सकीय एवं अन्य मार्गदर्शन देने के लिये जिला स्तरीय कोविड कमांड एवं केयर सेंटर स्थापित किया गया है। इस सेंटर के माध्यम से प्रतिदिन नियमित अंतराल में वीडियो और ऑडियो कॉल कर मरीज की स्थिति की निगरानी करने की व्यवस्था की गई है। कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने बताया कि अभी वर्तमान में मात्र 60 मरीज ही अस्पताल में भर्ती है। इनमे से भी 50 मरीज को हल्के लक्षण है। सिर्फ दो मरीज आईसीयू में है और आठ मरीजों को ऑक्सीजन दिया जा रहा है।

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बेस, अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री मोहम्मद सुलेमान सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुये। इंदौर से इस वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा भी शामिल थे।