Indore News: कांग्रेस के कार्यकर्ता सम्मेलन पर जिला प्रशासन ने लगाई रोक, विधायक शुक्ला ने लगाए ये आरोप

इंदौर: कांग्रेस (Congress) विधायक संजय शुक्ला (Sanjay Shukla) के द्वारा हर रविवार को आयोजित किया जा रहा है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सम्मेलन पर जिला प्रशासन के द्वारा रोक लगा दी गई है। विधायक शुक्ला ने इस रोक को अवैधानिक और भाजपा के नेताओं को खुश करने का जरिया निरूपित किया है।

विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 1 के विधायक संजय शुक्ला के द्वारा हर रविवार को अपने विधानसभा क्षेत्र के किसी वार्ड में कार्यकर्ताओं का सम्मेलन आयोजित किया जाता है। इस सम्मेलन में वार्ड के वृद्ध जनों एवं कोरोनावायरस से लड़ाई के योद्धाओं का सम्मान समारोह भी आयोजित होता है। कल 14 नवंबर को वार्ड क्रमांक 7 के कांग्रेस जनों का सम्मेलन हंसराज मठ पीलिया खाल पर आयोजित किया गया था। इस आयोजन की सूचना विधायक शुक्ला के द्वारा जिला प्रशासन के अधिकारियों को नियम के अनुसार भेज दी गई थी। इस सूचना के प्रत्युत्तर में कल शाम को एसडीएम मल्हारगंज के द्वारा एक पत्र भेजा गया। इस पत्र में एसडीएम के द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओं के इस सम्मेलन के आयोजन की अनुमति देने से इंकार कर दिया गया है।

ये भी पढ़े – जहरीली हवा से गैस चैंबर में बदला दिल्ली-NCR, प्रदूषण के मुद्दे पर आज सुनवाई करेगा SC

प्रशासन द्वारा दिए गए इस आदेश पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विधायक संजय शुक्ला ने कहा कि कोरोना के नाम पर एक तरफ हमें वृद्ध जनों का सम्मान करने से रोका जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ प्रदेश सरकार के द्वारा पूरे प्रदेश से आदिवासी भाइयों को इकट्ठा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में आयोजन किया जा रहा है। इंदौर का जिला प्रशासन जो कि कोरोना के नाम पर भीड़ इकट्ठी होने से रोकने के लिए कदम उठाने की बात करता है वह खुद भोपाल के आयोजन में भाग लेने के लिए जा रहे आदिवासियों के लिए कैंप बनाकर व्यवस्था करने में लगा हुआ है। इस समय सारे शहर में सभी तरह के आयोजनों को बराबर अनुमति दी जा रही है। इस अनुमति के परिपेक्ष में आयोजन भी हो रहे हैं। विधायक शुक्ला ने कहा कि भाजपा के नेताओं को खुश करने के लिए इंदौर के प्रशासन के द्वारा कांग्रेस के आयोजन पर रोक लगाने का कार्य किया गया है। यह नियम कायदों के दुरुपयोग की श्रेणी में आता है। इंदौर के प्रशासन को कभी गणेश उत्सव पर आपत्ति होती है, तो कभी नवरात्रि पर आपत्ति होती है और अब वृद्ध जनों के सम्मान पर भी आपत्ति हो रही है। उन्होंने प्रदेश सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि इंदौर की जनता सब जानती है। यह प्रदेश का सबसे बुद्धिजीवी शहर है। इस शहर में प्रशासन के माध्यम से भाजपा और शासन जो कुछ करा रहा है, उसका सही समय पर सही जवाब इंदौर की जनता देगी।