Indore : CM शिवराज की कक्षा में बच्चों ने जानी आज़ादी की कहानी, भारत माता के जयकारों से गूंजा अभय प्रशाल

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को इंदौर के अभय प्रशाल में आयोजित तेरा वैभव अमर रहे माँ कार्यक्रम में अलग ही अन्दाज़ में नज़र आए।

इंदौर- मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को इंदौर के अभय प्रशाल में आयोजित तेरा वैभव अमर रहे माँ कार्यक्रम में अलग ही अन्दाज़ में नज़र आए। मुख्यमंत्री चौहान जो कि मामा के नाम से लोकप्रिय हैं की शालेय छात्र छात्राओं के साथ केमेष्ट्री देखने ही लायक़ रही। अपने बीस मिनट के बच्चों से वार्तालाप के दौरान उन्होंने देशभक्ति के रंगो में सभी को भिगोया। इस दौरान पर्यावरण की रक्षा ,सबका सम्मान करने,विश्व कल्याण का संकल्प दिलाया। कार्यक्रम सांस्कृतिक एवं नैतिक प्रशिक्षण संस्थान द्वारा आयोजित किया गया था।

अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वासुदेव कुटुंबकम सदैव ही भारत का ध्येय रहा है। हमारे देश ने इस भाव को अपने अंदर समाहित किया है कि सब सुखी रहें, सब निरोगी रहें और सब का कल्याण हो। पाँच हजार साल से पुराना हमारे देश का ज्ञात इतिहास रहा है। जब तथाकथित विकसित देशों में सभ्यता का सूर्य उदय भी नहीं हुआ था तब भारत में वेदों की ऋचायें गढ़ ली गई थीं। उन्होंने जोड़ा देश भक्ति के भाव के साथ अपने देश एवं प्रदेश के विकास में अपना योगदान दें।जब परतंत्रता की बेड़ियों ने भारत को जकड़ा तब हमारे क्रांतिकारियों ने देश की आजादी की लड़ाई लड़ी।

Read More : नहीं थम रही Mouni Roy की बोल्डनेस, रेड गाउन पहन उड़ाए फैंस के होश

उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों को शहीद चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह एवं उधम सिंह द्वारा देश के लिए किए गए बलिदान और स्वतंत्रता की लड़ाई का वर्तांत सुनाया। उन्होंने क्रांतिकारियों द्वारा आजादी के संकल्प हेतु किए गए बलिदान के बारे में विद्यार्थियों को जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आजादी का महोत्सव इन्हीं क्रांतिकारियों के स्मरण में आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित विद्यार्थियों का आवाहन करते हुए कहा कि आज हमें देश के लिए जीना है और देश भक्ति के भाव के साथ अपने देश एवं प्रदेश के विकास और प्रगति में अपना योगदान देना है।

उन्होंने कहा कि कर्मठ और इमानदार नागरिक ही देश एवं प्रदेश का निर्माण करते हैं आज की युवा पीढ़ी को ऐसे ही नागरिक बनकर इस निर्माण में अपना योगदान देना है। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित सभी विद्यार्थियों को माता-पिता एवं गुरू तथा बहन/बेटियों का सम्मान और इज्जत करने का भाव अपने अंदर विकसित करने का संकल्प लेने के लिए कहा।
हर विद्यार्थी अपने जन्मदिन पर एक पेड़ लगाने का लें संकल्प मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारे विश्व के सभी जीव जंतुओं में एक ही चेतना है इसलिए हमें सिर्फ मनुष्य ही नहीं बल्कि प्रकृति और यहां रहने वाले पशु पक्षियों की भी रक्षा करनी है उनके प्रति भी प्रेम का भाव उत्पन्न करना है।

Read More : Britain: प्रधानमंत्री पद के लिए वोटिंग आज खत्म, 5 सितंबर को तय होगा ऋषि सुनक का भविष्य

उन्होंने कहा कि वे रोज एक पेड़ लगाते हैं, वे अपने दिन की शुरुआत एक पेड़ लगाकर ही करते हैं। उन्होंने छात्रों को संकल्प लेने के लिए कहा कि वे सभी अपने जन्मदिन पर एक पेड़ अवश्य लगाएं और प्रकृति के प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट करें। उन्होंने कहा कि हमारी युवा पीढ़ी सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि विश्व के कल्याण के लिए जिए पर्यावरण का संरक्षण करें और अगर जरूरत पड़े तो देश के लिए अपना सर्वस्व भी निछावर कर दें।कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 75 महापुरुषों की जीवन गाथा का विवरण देने वाली पुस्तक का विमोचन किया गया तथा उपस्थित छात्र-छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुति भी दी गई।

कार्यक्रम में सांस्कृतिक एवं नैतिक प्रशिक्षण संस्थान (इनीशिएटिव फॉर मोरल एंड कल्चरल ट्रेनिंग फाउंडेशन)इंदौर चैप्टर का शुभारंभ भी किया गया।इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव, राज्यसभा सदस्य कविता पाटीदार, विधायक महेंद्र हार्डिया, मालिनी गौड़, रमेश मेंदोला सहित अन्य जनप्रतिनिधि गण तथा सांस्कृतिक एवं नैतिक प्रशिक्षण संस्थान के इंदौर चैप्टर के चेयरमैन विनोद अग्रवाल एवं संयोजकगण उपस्थित रहे।