Indore: गेहूं और चावल की अफरा-तफरी करने पर दो उचित मूल्य दुकानदारों सहित एक अन्य विक्रेता के विरुद्ध की गई कार्रवाई

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में जिला प्रशासन की टीम द्वारा दुकानदारों सहित एक अन्य विक्रेता के विरुद्ध कार्रवाई की गई.

इंदौर। कलेक्टर मनीष सिंह के निर्देशन में जिला प्रशासन की टीम द्वारा इंदौर जिले के उचित मूल्य दुकानों की लगातार जाँच की जा रही है तथा अनियमितताएं पाये जाने पर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। इसी सिलसिले में गत दिवस खाद्य विभाग की टीम द्वारा काईम ब्रांच पुलिस के साथ संयुक्त रूप से इंदौर नगर निगम क्षेत्र की दो उचित मूल्य दुकानों अंकुर प्रा. सह. उप. भंडार तथा इंदिरा गांधी महिला प्रा. सह. उप. भंडार की जांच की गई।

अंकुर प्रा. सह. उप. भंडार की जांच में भौतिक सत्यापन में 1089 कि.ग्रा. गेहूं एवं 89 कि.ग्रा. चावल कम पाया गया। इंदिरा गांधी महिला प्रा.सह.उप. भंडार की जांच दौरान भौतिक सत्यापन में 18 क्विंटल गेहूं एवं 12 क्विंटल चावल अधिक पाया गया। बताया गया कि एक अन्य स्थान अग्रसेन चौराहा लोहामंडी रोड पर भी जांच की गई, यहां 200 बोरे चावल के तथा 96 बोरे गेहूं के पाये गये, जिन्हें मौके पर जप्त कर शासकीय गोदाम में रखवाया गया। परिसर में 02 सवारी ऑटो एवं 01 लोडिंग ऑटो से जांच के समय खाद्यान्न अनलोडिंग करना पाया गया।

उक्त तीनों वाहनों को भी जप्ती में ले लिया गया है। इतनी बड़ी मात्रा में प्राप्त गेहूं व चावल इस परिसर के मालिक मयंक सिंघल द्वारा पीडीएस के उपभोक्ताओं से अथवा उचित मूल्य दुकानों के विक्रेताओं से खरीदकर यहां संग्रह किये जाने की पूरी आशंका है।

Also Read: Indore: आस्ट्रेलिया के दल ने ग्रिड, स्काडा सिस्टम और स्मार्ट मीटर कंट्रोल रूम का किया निरक्षण

जांच समय मयंक सिंघल द्वारा फर्म का पंजीयन मंडी अनुज्ञप्ति, गुमाश्ता लायसेंस आदि किसी प्रकार का कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया गया, जिससे स्पष्ट है कि उनके परिसर में अफरा-तफरी करने के उद्देश्य से खाद्यान्न संग्रहित किया गया है। उपरोक्त अनियमितताएं करने वाले दोनों उचित मूल्य दुकान विक्रेताओं एवं मयंक सिंघल के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।