अन्य

बॉर्डर पर तनाव के बीच वायुसेना को मिली नई ताकत, एयरफोर्स चीफ ने तेजस में भरी उड़ान

नई दिल्ली: एक तरफ देश में नेपाल और चीन बॉर्डर पर चल रहे तनाव को लेकर चर्चा चल रही है, वहीं दूसरी ओर वायुसेना प्रमुख मार्शल RKS भदौरिया ने फ्लाइंग बुलेट्स से उड़ान भरी है। दरअसल, आज स्वदेशी तेजस की दूसरी स्क्वाड्रन वायुसेना में शामिल हो गई है, जिसकी शुरुआत खुद वायुसेना प्रमुख ने की है। इस स्क्वाड्रन का नाम फ्लाइंग बुलेट्स दिया गया है।

आज इस कार्यक्रम का आयोजन तमिलनाडु के कोयम्बटूर के पास सुलूर एयरफोर्स स्टेशन पर किया गया। यह स्क्वाड्रन LCA तेजस विमान से लैस है। तेजस को उड़ाने वाली वायुसेना की यह दूसरी स्क्वाड्रन है।

वायुसेना ने हल्के लड़ाकू विमान तेजस को HAL से खरीदा है। नवंबर 2016 में वायुसेना ने 50,025 करोड़ रुपए में 83 तेजस मार्क-1 ए की खरीदी को मंजूरी दी थी। इस डील पर अंतिम समझौता करीब 40 हजार करोड़ रुपए में हुआ है।

स्क्वाड्रन की कमी से जूझ रही वायुसेना को इसी साल 36 रफाल लड़ाकू विमानों की पहली खेप फ्रांस से मिलने जा रही है। इस बीच तेजस की एक नई स्क्वाड्रन का शामिल होना राहत भरी खबर है।