जम्मू कश्मीर

LAC पर घटा तनाव: पीछे हटी भारतीय-चीनी सेना

 

 

लद्दाख: लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर पिछले कुछ दिनों से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। हालांकि अब ये तनाव थोड़ा कम हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना 2 किमी और भारतीय सेना अपनी जगह से 1 किमी पीछे हटी है। वहीं, फिंगर फोर इलाके में पिछले कई हफ़्तों भारत-चीनी सेनाएं एक-दूसरे के सामने डटी हुई है, जो भारत के नियंत्रण में है।

गौरतलब है कि गलवान घाटी में पिछले कुछ दिनों से भारत और चीनी सेनाओं के बीच तनाव बना हुआ है। यहां का पैंगोंग इलाका सबसे ज्यादा विवादों में है। 6 जून को दोनों देशों के बीच जो बैठक होने वाली है, उसमें पैंगोंग पर ही ज्यादा फोकस रहने की संभावना है।

दरअसल, लद्दाख में चीन अपना दम दिखाने की कोशिश कर रहा था, तभी भारतीय सेना ने वहां मोर्चा संभल लिया और वही डटी हुई है। दोनों तरफ से बातचीत भी जारी है, लेकिन अब तक गतिरोध खत्म नहीं हो पाया है। अब 6 जून को एक बार फिर मीटिंग प्रस्तावित है, जिसमें दोनों सेनाओं के लेफ्टिनेंट जर्नल रैंक के अधिकारी हिस्सा लेंगे। इस मीटिंग को भारत की तरफ से लेह स्थित 14 कॉर्प कमांडर का डेलीगेशन लीड करेगा। यह उच्च स्तरीय मीटिंग सीमा पर संकट खत्म करने के लिहाज से काफी अहम मानी जा रही है।

सैटेलाइट इमेज से घुसपैठ के दावे

इससे पहले सैटेलाइट इमेज सामने आने के बाद चीनी सैनिकों की घुसपैठ को लेकर कई दावे किए जा रहे है। एक तरफ कहा जा रहा है कि सैटेलाइट इमेज में चीनी सैनिकों की घुसपैठ के आसार बहुत कम दिख रहे है, वहीं दूसरी ओर कहा जा रहा है कि करीब पांच हजार चीनी सैनिक LAC पर आ गए है।

इधर, अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी माना है कि बॉर्डर पर हालात तनावपूर्ण हैं। पोम्पियो का कहना है कि चीनी सेना भारत के बॉर्डर की ओर बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में चीनी सेना भारत के उत्तरी हिस्से की ओर बढ़ी है, लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर भारतीय बॉर्डर के पास चीनी सेना को देखा जा सकता है।