दिल्लीदेश

दिल्ली सरकार के पास पैसों की कमी, केंद्र से मांगी मदद

नई दिल्‍ली।  कोरोना वायरस महामारी  के बचाव के लिए देश भर में  लॉकडाउन लागू है। ऐसे में देश में बड़ा आर्थिक संकट आ चुका है। इसका असर हर राज्‍य दिखाई दे रहा है । लॉकडाउन के कारण  से आर्थिक गतिविधिया बंद हैं जिसके कारण राज्‍यों की सरकारों पर कर्मचारियों को आय देने का भी संकट आ गया है । यह संकट अब देश की राजधानी दिल्ली पर भी आ चुका है। जी हां ऐसा हम नहीं बल्कि दिल्ली सरकार खुद बता रही है।

दरअसल  दिल्‍ली के  वित्‍त मंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को बताया कि दिल्‍ली सरकार के सामने कर्मचारियों को सैलरी देने का संकट पैदा हो गया है। मनीष सिसोदिया ने कहा कि पिछले दो महीने में कर वसूली के तौर पर सरकार के पास कुल एक हजार करोड़ का राजस्‍व आया है।

उन्होने बताया कि  कर वसूली के अलावा अन्‍य स्रोतों से 725 करोड़ रुपए खजाने में आए हैं।  उन्‍होंने बताया कि दिल्‍ली सरकार को प्रतिमाह 3500 रुपए बतौर वेतन देना होता है, लेकिन सरकार के पास सिर्फ 1725 करोड़ रुपए हैं। ऐसे में कर्मचारियों का वेतन कैसे दिया जाए।

केंद्र से मांगी मदद 

मनीष सीसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार को आपदा प्रबंधन का भी पैसा नहीं मिला है।  दिल्ली सरकार को 7 हज़ार करोड़ की जरूरत है।  सिसोदिया ने बताया कि उन्‍होंने मौजूदा हालात को देखते हुए उन्होंने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ रुपए मांगे हैं।  इस बाबत वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण को उन्‍होंने चिट्ठी भी लिखी है। बता दें कि वित्त मंत्री सीसोदिया ने इस बात के बारे में ट्वीटर के जरिये बताया।