दिल्लीदेश

देश लाॅकडाउन को पीछे छोड़ चुका, अब आत्मनिर्भर बनने की बारी : PM मोदी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से देश में लोगों की जान पर ही नहीं बन कर आई है बल्कि देश पर आर्थिकक संकट भी छा गया है। इससे उभरने के लिए सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की है। इस बीच मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय उद्योग परिसंघ के सालाना कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि वे कारोबारियों के साथ हैं, आप एक कदम आगे बढ़ाइए, सरकार चार कदम आगे बढ़ाएगी।

उन्होंने कहा कि देश अब लॉकडाउन को पीछे छोड़ चुका है। आज से तीन महीने पहले देश में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी, लेकिन आज रोज तीन लाख किट बन रही हैं। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि सीआईआई हर सेक्टर को लेकर एक रिसर्च तैयार करे और प्लान मुझे दे। इसके अलावा पीएम मोदी ने कई बाते कही जिनमें ये बातें खास रही।

  • कोरोना से लड़ते हुए अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज करेंगे।
  • देश की क्षमता, टैलेंट और टेक्नोलॉजी पर भरोसा है। हम एक बार फिर अर्थव्यवस्था को तेज रफ्तार देंगे।
  • भारत लॉकडाउन को पीछे छोड़कर अनलॉक फेज में घुस चुका है।
  • रणनीतिक मामलों में किसी दूसरे पर निर्भर रहना ठीक नहीं, आत्मनिर्भर भारत का मतलब रोजगार पैदा करना और विश्वास पैदा करना है।
  • अर्थव्यवस्था को फिर से मजबूत करना सरकार की प्राथमिकता है। इसके लिए सरकार कई तरह के फैसले ले रही है।
  • देश के आत्मनिर्भर बनाने के लिए पांच विषयों पर ध्यान देना जरूरी है। इनमें इंटेंट, इंक्लूजन, इनवेस्टमेंट, इंफ्रास्ट्रक्चर और इनोवेशन शामिल हैं।
  • अब किसान कहीं भी, कभी भी अपनी फसलों को अपनी शर्तों पर बेच सकते हैं।
  • एमएसएमई की परिभाषा बदलने की मांग को पूरा कर दिया गया है, इससे छोटे कारोबारियों को लाभ मिलेगा।
  • देशों को एक दूसरे की जरूरत पड़ने लगी है। कोरोना संकट के दौरान जब हर कोई खुद को संभाल रहा था, तब भारत ने 125 से अधिक देशों को मेडिकल मदद भेजी थी।
  • कारोबार को आसान बनाने, छोटे कारोबारियों को लोन देने, रोजगार बढ़ाने के लिए कई तरह के फैसले लिए।