देश

रेड, ऑरेंज और ग्रीन के बाद बने बफर और कंटेनमेंट जोन, राज्य को फैसला लेने का अधिकार

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर लाॅक डाउन को 31 मई तक के लिए बढ़ा दिया है। इसको लेकर सरकार ने रविवार को नई गाइडलाइन भी जारी की गई है। जिसके तहत देश में पांच जोन बनाने का फैसला लिया गया है। इस जोन में रेड जोन, ग्रीन जोन और ऑरेंज रेड, आॅरेंज और ग्रीन के बाद बने बफर और कंटेनमेंट जोन, राज्य को फैसला लेने का अधिकारजोन के अलावा बफर जोन और कंटेंटमेंट जोन भी शामिल रहेंगे। बता दें कि इन जोन को लेकर फैसला लेने का अधिकार राज्य सरकारों को दिया गया है। इससे पहले देश में मात्र तीन ही जोन थे। जिसमें रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन शामिल है।

बता दे कि नए रंग-रुप वाले इस लॉकडाउन में आर्थिक गतिविधियों को छूट दी गई है लेकिन हॉटस्पॉट एरिया में सख्ती जारी रहेगी। गौरतलब है कि लॉकडाउन 3 की मियाद आज खत्म हो रही है। गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन के मुताबिक लॉकडाउन 4.0 में घरेलू-विदेशी उड़ानों को इजाजत नहीं दी गई है। स्कूल-कॉलेज, धार्मिक स्थल, रेस्त्रां, जिम और मेट्रो सेवा सभी बंद रहेंगे। इसके साथ ही हॉटस्पॉट एरिया में सख्ती जारी रहेगी।

एक लाख के करीब आंकड़ा

पिछले 24 घंटे में अब तक के सबसे ज्यादा मामले शनिवार को दर्ज किए गए। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में 24 घंटे में 4987 नये मामले आए हैं। वहीं अब तक कोरोना के 90,927 केस हो चुके हैं। इनमें 53946 एक्टिव केस हैं। कोरोना से अब तक देशभर में 2872 मरीजों की जान जा चुकी है। राहत की बात ये है कि 34108 मरीज ठीक होकर घर भी लौटे हैं। इसी के साथ रिकवरी रेट भी 35 फीसदी हो चुका है।

21 दिनों का था पहला लॉकडाउन

गौरतलब है कि देश में पहले लॉकडाउन की घोषणा 24 मार्च को की गई थी, जो 21 दिनों के लिए लगाया गया था। इसके बाद लॉकडाउन 2 की घोषणा की गई. इसकी मियाद 3 मई तक थी। इसके बाद लॉकडाउन क्व तीसरे चरण का ऐलान करते हुए इसे दो हफ्तों के लिए और बढ़ा दिया गया। लॉकडाउन को लागू हुए भले ही 50 दिन से ज्यादा का वक्त हो चुका है, लेकिन कोरोना वायरस खत्म नहीं हुआ है। ये जरुर कहा जा सकता है कि पिछले 50 दिनों में दूसरे देशों के मुकाबले में भारत में इसके संक्रमण की रफ्तार धीमी जरूर रही है।