महाकाल मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ देखते हुए सोमवार को उज्जैन के सभी स्कूलों कि छुट्टी घोषित

उज्जैन श्रावण माह में भगवान शिव की में श्री महाकालेश्वर के दर्शन के लिए हजारों की संख्या में लोग आसपास के जिलों एवं विभिन्न प्रदेशों से उज्जैन आ रहे हैं।

उज्जैन श्रावण माह में भगवान शिव की में श्री महाकालेश्वर के दर्शन के लिए हजारों की संख्या में लोग आसपास के जिलों एवं विभिन्न प्रदेशों से उज्जैन आ रहे हैं । साप्ताहिक अवकाश, बाबा की सवारी एवं नागपंचमी पर्व पर भगवान महाकाल  एवं भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन सभी आगंतुक श्रद्धालुओं को सुगमता से हो सके इसके लिए प्रशासन द्वारा व्यापक व्यवस्थाएं की गई है । विभिन्न दिशाओं से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अलग- अलग स्थानों पर पार्किंग की व्यवस्था की गई है । इनमें इंदौर एवं देवास की ओर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए कर्कराज मंदिर के पास तथा बड़नगर एवं आगर क्षेत्र से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए कार्तिक मेला ग्राउंड पर पार्किंग करने की व्यवस्था की गई। वहां से श्रद्धालुगणों के नरसिंह घाट तक आकर बैरिकेट्स के माध्यम से मंदिर तक जाने की व्यवस्था की गई है । कर्क राज मंदिर के पास एवं नरसिंह घाट के पास जूता स्टैंड भी बनाये गए है । पैदल मार्ग पर श्रद्धालुओ के पांव जले नही इसके लिए कारपेट बिछाया गया है । गर्मी से बचने के लिए छाया आदि की व्यवस्थाओं को भी प्रशासन द्वारा किया गया है।

Also Read  – महादेव की भक्ति संग कल होगी नाग देवता की पूजा, नाग पंचमी के दिन भूलकर भी न करें ये काम

रविवार को भी बाबा महाकाल के दर्शनों के लिए भारी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुचने का सिलसिला जारी रहा। प्रशासन की उम्मीद से अधिक लाखों श्रद्धालुओं ने आज बाबा महाकाल के दर्शन किये । स्थानीय जनसंपर्क कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार श्रद्धालुओं की संख्या देखते हुए कलेक्टर ने स्थानीय स्कूलों में सोमवार को अवकाश घोषित कर दिया है। विभिन्न स्थानों से आने वाले श्रद्धालु सुगम दर्शन के उपरांत प्रसन्नता से अपने अपने गन्तव्य की ओर लौटते हुए नजर आ रहे हैं । कलेक्टर आशीष सिंह एवं पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला कंट्रोल रूम से पूरी व्यावस्था का जायजा लिया । साथ ही सवारी एवं नागपंचमी पर्व की व्यवस्था बनाने के लिए किए गए कार्यों का भी निरीक्षण किया। कई श्रद्धालु महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति एवं जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं से प्रसन्न नजर आए विदिशा से आए अभिषेक व्यास जो अपने मित्रों के साथ दर्शन के लिए आए थे उन्होंने बताया कि वे लाइन में लगकर लगभग एक से डेढ़ घंटे के बीच दर्शन करके अपने घर की ओर जा रहे हैं ।

उन्होंने व्यवस्थाओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि इतनी बड़ी तादाद में दर्शनार्थियों की संख्या को देखते हुए प्रशासन द्वारा अच्छी व्यवस्थाएं की गई है । इसी तरह इंदौर से आए राघवेंद्र सिंह, मंदसौर के ग्राम रूपखेड़ी से आये आशीष सक्सेना ने भी कहा कि वे बहुत ही आराम से दर्शन करके घर की ओर लौट रहे हैं । रतलाम से आए गौरव ने पत्नी व पिता के साथ सुगमता से दर्शन किए एवं व्यवस्था की तारीफ की । वही मंदिर के पहुच मार्ग के स्थानीय रहवासियों को बेरिकेटिंग के कारण बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है । क्षेत्र के कई निवासी प्रशासन द्वारा की गई बेरिकेडिंग को अघोषित लॉक डाउन बता कर शिकायत करते नजर आए ।

 

 

दर्शनार्थियों से अधिक पैसा वसूली की शिकायत के लिये हेल्पलाइन नंबर जारी, सोमवार होटल बंद करने व ऑटो रिक्शा का लाइसेंस रद्द करने की होगी कार्रवाई

उज्जैन सावन-भादौ मास में सोमवार एवं शहर में निकलने वाली भगवान महाकालेश्वर की सवारियों के दौरान दर्शनार्थियों की संख्या अधिक होने पर यह शिकायत प्राप्त हुई कि होटल वाले मनमाने राशि वसूल करते हैं । साथ ही ऑटो रिक्शा वाले भी दर्शनार्थियों के साथ बदसलूकी करके उनसे अधिक पैसा ऐंठते हैं। इस संबंध में जिला प्रशासन एवं जिला पुलिस द्वारा संज्ञान लेते हुए होटल वालों एवं ऑटो रिक्शा वालों की शिकायत करने के लिए हेल्पलाइन नंबर 7049119001 जारी किया गया है । कोई भी व्यक्ति प्रमाण के साथ होटल एवं ऑटो रिक्शा द्वारा ली गई अधिक धनराशि की शिकायत इस पर कर सकता है। इस नंबर पर व्हाट्सअप भी उपलब्ध है। जांच में शिकायत सही पाई जाती है तो संबंधित होटल के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करते हुए होटल को बंद करवा दिया जाएगा। साथ ही ऑटो रिक्शा का परिवहन लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर आशीष सिंह एवं पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने इस मामले में स्पष्ट रूप से कहा है कि सभी होटल वाले नियत राशि ही श्रद्धालुओं से लें। साथ ही ऑटो रिक्शा वालों को भी हिदायत दी गई है कि वह निर्धारित किराया ही सवारियों से लें व यात्रियों से बदसलूकी ना करें। अन्यथा उनके विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।