सावन माह में शिव की इस स्तिुति का करें रोजाना पाठ, शिव होते हैं प्रसन्न

0
59
shiva

शिव अपने भक्तों के साथ वैसे तो हमेशा ही रहते हैं लेकिन सावन माह में वह अपने भक्तों से कुछ ज्यादा ही खुश रहते हैं। सावन में रोजाना शिव का स्मरण करना भक्तों के लिए सबसे सफल माना जाता हैं। शिव को याद करते हुए यदि आप रोजाना शिव स्तुति का पाठ करते हैं तो यह आपको बहुत लाभ देता हैं। आज हम आपको शिव की उस स्तुति के बारे में बता रहे हैं जो आपको जीवन भर शुभफल ही देंगी।

भगवान शिव स्तुति पशूनां पतिं पापनाशं परेशं

पशूनां पतिं पापनाशं परेशं गजेन्द्रस्य कृत्तिं वसानं वरेण्यम।
जटाजूटमध्ये स्फुरद्गाङ्गवारिं महादेवमेकं स्मरामि स्मरारिम।1।
महेशं सुरेशं सुरारातिनाशं विभुं विश्वनाथं विभूत्यङ्गभूषम्।
विरूपाक्षमिन्द्वर्कवह्नित्रिनेत्रं सदानन्दमीडे प्रभुं पञ्चवक्त्रम्।2।

भवं भास्वरं भस्मना भूषिताङ्गं भवानीकलत्रं भजे पञ्चवक्त्रम्।3।
शिवाकान्त शंभो शशाङ्कार्धमौले महेशान शूलिञ्जटाजूटधारिन्।
त्वमेको जगद्व्यापको विश्वरूपरू प्रसीद प्रसीद प्रभो पूर्णरूप।4।
परात्मानमेकं जगद्बीजमाद्यं निरीहं निराकारमोंकारवेद्यम्।
यतो जायते पाल्यते येन विश्वं तमीशं भजे लीयते यत्र विश्वम्।5।

न गृष्मो न शीतं न देशो न वेषो न यस्यास्ति मूर्तिस्त्रिमूर्तिं तमीड।6।
अजं शाश्वतं कारणं कारणानां शिवं केवलं भासकं भासकानाम्।
तुरीयं तमरूपारमाद्यन्तहीनं प्रपद्ये परं पावनं द्वैतहीनम।7।
नमस्ते नमस्ते विभो विश्वमूर्ते नमस्ते नमस्ते चिदानन्दमूर्ते।
नमस्ते नमस्ते तपोयोगगम्य नमस्ते नमस्ते श्रुतिज्ञानगम्।8।

प्रभो शूलपाणे विभो विश्वनाथ महादेव शंभो महेश त्रिनेत्।
शिवाकान्त शान्त स्मरारे पुरारे त्वदन्यो वरेण्यो न मान्यो न गण्यरू।9।

शंभो महेश करुणामय शूलपाणे गौरीपते पशुपते पशुपाशनाशिन्।
काशीपते करुणया जगदेतदेक-स्त्वंहंसि पासि विदधासि महेश्वरोऽसि।10।
त्वत्तो जगद्भवति देव भव स्मरारे त्वय्येव तिष्ठति जगन्मृड विश्वनाथ।
त्वय्येव गच्छति लयं जगदेतदीश लिङ्गात्मके हर चराचरविश्वरूपिन।11।

शिव की यह स्तुति भक्तों को रोजाना सच्ची श्रद्धा से करनी चाहिए। सच्ची श्रद्धा और विश्वास से किया गया हर काम सफल होता हैं। विश्वास में सबसे ज्यादा ताकत होती हैं यह तो आपने सुना ही होगा। शिव स्तुति और शिव मंत्र में इतनी शक्ति होती हैं कि वह किसी भी व्यक्ति के दिन पलट सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here