बिहार-झारखंड में जांच एजेंसीयों ने नेताओं के घर की छापेमारी

सेंट्रल जांच एजेंसियां सीबीआई और प्रवर्तन निदेशायल (ईडी) बीते कुछ दिनों से लगतार नेताओं के घर से लेकर कार्यालय तक दबिश दे रहीं हैं।

सेंट्रल जांच एजेंसियां सीबीआई और प्रवर्तन निदेशायल (ईडी) बीते कुछ दिनों से लगतार नेताओं के घर से लेकर कार्यालय तक दबिश दे रहीं हैं। आज यानि बुधवार को बिहार के 24 और झारखंड के 17-20 ठिकानों पर छापेमारी की हैं। इसमें बिहार राज्य में आरजेडी एमएलसी सुनिल सिंह, पूर्व एमएलसी सुबोध रॉय, राज्यसभा सासंद अशफाक करीम और फैयाज अहमद शामिल है। वहीं झारखंड राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोनेर के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा और बच्चु यादव से ईडी पूछताछ कर रही हैं।

गौरतलब है कि, बिहार विधानसभा में बुधवार को प्लोर टेस्ट होने वाला हैं। वही, ईडी और सीबीआई की छापेमारी पर आरजेडी नेता सुनील सिंह ने भाजपा पर हमला करते हुए बयान दिया है कि, यह जानबूझकर किया जा रहा है। वे यह सोचकर जांच एजेंसियों का इस्तेमाल करा रहे हैं कि डर के मारे विधायक उनके पक्ष में आ जाएंगे।

Also Read : अडानी ग्रुप ने की NDTV का 29 % स्टेक लेने की घोषणा, CEO सुपर्णा बोली हमें नहीं जानकारी

आरजेडी सांसद मनोज झा ने भी केंद्र पर हमला करा और बोले,  आज बिहार विधानसभा में फ्लोर टेस्ट है और इन्होंने (भाजपा) डराने के लिए आज का दिन चुना है, आप राजनीतिक रूप से लड़ाई नहीं लड़ सकते हैं। आप इन्हें ईडी, सीबीआई की नहीं आप इन्हें भाजपा की रेड कहिए। ये संगठन भाजपा के लिए काम करती है।

झारखंड से बिहार तक ED भी एक्टिव

सीबीआई के छापों के बीच ईडी भी एक्टिव हो गई है। ईडी ने अवैध खनन में मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में झारखंड, तमिलनाडु, बिहार और दिल्ली में 17-20 ठिकानों पर छापेमारी की है। झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा और बच्चू यादव से पूछताछ के बाद ईडी द्वारा ये छापेमारी की गई है। दोनों को कुछ समय पहले ही ईडी ने गिरफ्तार किया है। ईडी ने मार्च में मिश्रा और अन्य के खिलाफ PMLA एक्ट के तहत मामला दर्ज कर छापेमारी शुरू की थी।