टीना डाबी भारत सरकार में IAS का बनने के बाद से सोशल मीडिया सुर्खियां बटोरती नजर आई है। हाल ही में उन्होंने दूसरी शादी करने के बाद हनीमून से आने के बाद उनको प्रमोशन मिल गया है। वह बतौर जिला कलेक्टर का पद संभाल चुकी है। इसकी जानकारी उन्होंने सोशल मीडिया पर फोटो शेयर करते हुए दी। उन्हें जैसलमेर जिला की 65वीं कलेक्टर नियुक्ति किया गया है। अब पहले से ज्यादा फैसिलिटी दी जाएगी। आइए जानते है कि एक डीएम को क्या-क्या सुविधाएं दी जाती है।

मिलेंगी इतनी सैलरी और सुविधाएं

नौकरशाह को राजस्थान में 1.34 लाख रूपए से लेकर 1.45 लाख रूपए तक सैलरी दी जाती है। डीएम से पहले टीना के पास फिनांस विभाग में तैनात थी। उस विभाग में टीना डाबी को 56100 को सैलरी मिलती थी। भारत सरकार की तरफ से जिला कलेक्टर को सरकारी आवास दिया जाता है, साथ ही एक गाड़ी दी जाती है। गाड़ी के साथ-साथ ड्राइवर और नौकर होते हैं। आवास पर बगीचे के लिए माली होते हैं, खाना बनाने के लिए कुक भी दिया जाता है। इसके अलावा अन्य कार्य को करने के लिए पर्सनल असिस्टेंट की भी सुविधा मिलती है।

Also Read : MCD Election Result : दिल्ली में चला झाड़ू, लेकिन वोट शेयर घटने से CM केजरीवाल की बढ़ी चिंता

इससे पहले इन पोस्ट पर कर चुकि है काम

साल 2016 में टीना को मिनिस्ट्री ऑफ स्मॉल एंड माइक्रो मीडियम इंटरप्राइजेज में डेप्यूटेशन पर असिस्टेंट सेक्रेटरी ती जिम्मेदारी दी गई थी। उसके बाद साल 2017 में अजमेर में बतौर असिस्टेंट कलेक्टर पोस्टिंग मिली थी। वही 2018 में टीना डाबी को सब डिविजन ऑफिसर मजिस्ट्रेट के तौर पर काम किया था। इसके बाद नंवबर 2020 में उन्होंने फाइनेंस डिपार्टमेंट जयपुर में जॉइंट सेक्रेंटरी बनाया गया। अब टीना को 6 जुलाई को बतौर जिला कलेक्टर के पद नियुक्त किया गया है।