इंदौर के Motherhood Hospital में हाई रिस्क प्रेग्नेंसी को सफलतापूर्वक मैनेज किया और बाद में गर्भावस्था के 25वें सप्ताह में जन्म लेने वाले एक्सट्रीमली प्रीमैच्योर बच्चे का नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (एनआईसीयू) में उपचार किया। 33 वर्षीय नंदिनी, जिन्होंने कई बार आईवीएफ और 4 बार आईयूआई कराया था, और बाद में आईवीएफ के 5वें प्रयास में गर्भवती हुई थी। उनके गर्भ में जुड़वा संताने थी। नंदिनी को थायरॉयड,बॉर्डर लाइन डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर जैसी कई समस्याएं थीं, जिसके कारण उनकी प्रेग्नेंसी काफी ज्यादा रिस्की हो गई थी।

गर्भवती महिला के स्वास्थ्य के साथ-साथ बच्चों के स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की गई, विशेष रूप से आहार के साथ, क्योंकि उनमें ग्लूकोज टॉलरेंस कम था और डायबिटीज की आशंका थी। बड़ी मुश्किल के साथ गर्भावस्था 25 हफ्ते 4 दिन तक चली इसके बाद उसने जुड़वां बच्चों को जन्म दिया, जिनमें से केवल एक बच्चा ही जीवित रहा। एक बच्चे को खोने के बाद, माता-पिता पहले से ही निराश और उम्मीद खो चुके थे।

जीवित बची प्रीमैच्योर बच्ची को 2.8 महीने तक एनआईसीयू में रखा गया और इस दौरान उसे कई जटिलताओं का सामना करना पड़ा। निरंतर उपचार और सही देखभाल के साथ, बच्ची की स्थिति में विभिन्न चरणों में सुधार हुआ। एनआईसीयू में रहने के दौरान अत्यधिक देखभाल के साथ, बच्ची का स्वास्थ्य अब अच्छे है और वह अब अच्छे से प्रतिक्रिया भी दे रही है। मदरहुड हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट और आईवीएफ स्पेशलिस्ट डॉ. आशा बक्षी ने कहा, “मां को कई प्रसूति संबंधी जटिलताएं थीं, जिसके लिए उन्होंने कई बार आईवीएफ कराया। वह जुड़वां गर्भावस्था के साथ गर्भवती हुई।

हमने पहले ही अंदाजा लगाया था कि बच्चों का प्रीमैच्योर समय जन्म होगा। चूंकि नंदिनी की गर्भाशय ग्रीवा भी कमजोर हो रही थी और जल्दी खुल रही थी, इसलिए उसे गर्भावस्था के 20वें सप्ताह में गर्भाशय ग्रीवा (सर्वाइकल स्टिच) से गुजरना पड़ा। हमने गर्भावस्था की निगरानी की और उन्हें उचित आहार लेने की सलाह दी। परिवार के साथ चर्चा करने के बाद, 21वें सप्ताह में, हमने उसे प्री टर्म प्रसव और दर्द को कम करने के लिए “एटोसिबन” नाम का विशेष इंजेक्शन दिया।

रोगी ने 25 सप्ताह और 4 दिनों तक गर्भावस्था जारी रखी, जिसमें जुड़वा बच्चों को जन्म दिया गया। एक बच्चा जीवित नहीं रह सका, और दूसरी बच्ची एक प्रीमैच्योर बच्ची थीं, जिसका वजन 780 ग्राम था और उसे आगे की देखभाल के लिए एनआईसीयू में स्थानांतरित कर दिया गया । डॉ. बक्षी ने आगे कहा, “जुड़वां गर्भधारण बेहद रिस्की होता है और अक्सर गर्भनाल, मातृ आयु, चिकित्सा समस्याओं, प्रसूति संबंधी जटिलताओं और बच्चों के विकास से संबंधित समस्याओं से जटिल हो जाता है।

गर्भावस्था में भ्रूण की संख्या जितनी अधिक होगी, समय से पहले जन्म का जोखिम उतना ही अधिक होगा। समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चे अपने शरीर और अंग प्रणालियों के पूरी तरह से मैच्योर होने से पहले ही पैदा हो जाते हैं। इसलिए, हमें मां के पेट के अंदर रहने वाले बच्चे को बचाने के लिए अतिरिक्त सावधानी बरतनी पड़ी।” मदरहुड अस्पताल में नवजात शिशु और बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. सुनील पुरसवानी ने कहा, “बच्ची को सांस लेने में तकलीफ जैसी कई जटिलताएं थीं, क्योंकि वह नाक में उच्च ऑक्सीजन पर निर्भर थी। उसे नाक की ऑक्सीजन से छुड़ाने में 2 सप्ताह का समय लगा।

अन्य जटिलताओं में फीडिंग की समस्या थी क्योंकि वह क्योंकि वह फ़ीड बर्दाश्त नहीं कर रही थी, इसके अलावा गुर्दे की विफलता, प्रीमेच्योरिटी एपनिया, प्रीमेच्योरिटी की रेटिनोपैथी आदि समस्याएं शामिल थी। बच्ची के दिल में भी छेद था, जिसके कारण उसे तीन बार वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी पर दवाइयों की मदद से उस छेद को भी बंद कर दिया गया। उचित दवाओं, लेजर थेरेपी और 2.8 महीनों तक लगातार निगरानी के साथ, उसने फीड पर प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया, ठीक से सांस ले सकी।

उसका वजन भी बढ़ने लगा। उसके शरीर के वजन को बनाए रखने के लिए सिर्फ मां का दूध दिया गया। नर्सों द्वारा साफ-सफाई के विशेष ध्यान ने छोटे बच्चे को जानलेवा संक्रमणों से सुरक्षित रखने में मदद की। बच्चे का वजन वर्तमान में 2.5 किलोग्राम हो गया है।” डॉ. पुरसवानी कहते हैं कि “अस्पताल में रहने के दौरान, माता-पिता को कंगारू देखभाल के लिए प्रशिक्षित किया गया था जहां बच्चे को त्वचा से त्वचा के संपर्क के लिए मां की छाती पर रखा जाता है। बच्चे को स्वस्थ हालत में छुट्टी दे दी गई और अब नन्हीं बच्ची मां को पहचानती है और उसे देखकर मुस्कुराती है।”

Source : PR 

Also Read: Online fraud के मामले में क्राइम ब्रांच इंदौर ने वापस दिलाई एक लाख 98 हजार की राशि, Cyber Helpline Number से हुआ शिकायत का निदान