कैसे ISIS को चकमा देकर भारत आया था हरजीत, सुषमा ने बताई सच्चाई

0
40

नई दिल्ली : विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को राज्यसभा में ईराक के मोसुल में लापता हुए 39 भारतीयों को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने संसद में लापता हुए सभी 39 भारतीय के मारे जाने की पुष्टि की है. सुषमा ने बताया कि तीन साल पहले अगवा किए गए सभी भारतीयों को ISIS ने मार गिराया है. इस दौरान सुषमा स्वराज ने बताया कि हरजीत मसीह द्वारा जो कहानी सुनाई गई थी, वह पूरी तरफ गलत है. बता दे कि हरजीत मसीह भारतीय है और वह मारे गए भारतीयों के साथ ही ISIS के कब्जे में था, लेकिन वह किसी तरह बच के भारत वापस आ गया.Image result for sushma swarajसुषमा ने बताया कि जब ISIS ने 40 भारतीयों को अगवा किया तो उनके साथ कुछ बांग्लादेशी युवाओं को भी अगवा किया था. बाद में ISIS के आतंकियों ने भारतीयों और बंगलादेशी युवाओं को अलग-अलग रखने का फैसला किया. इस दौरान हरजीत मसीह ने अपने मालिक से बात करके अपना नाम अली किया और बांग्लादेशियों वाले समूह में शामिल हो गया. इसके बाद हरजीत मसीह वहां से इरबिल पहुंचा और मुझे फ़ोन किया.Image result for isisसुषमा ने आगे कहा, मैंने उनसे पूछा कि ऐसा कैसे हो सकता है कि आपको कुछ भी नहीं पता? तो उसने बस यह कहा कि मुझे कुछ नहीं पता, बस आप मुझे यहां से निकाल लो.

बता दे कि इससे पहले हरजीत मसीह ने जो कहानी सुनाई थी, उसके अनुसार ISIS के आतंकी सभी को पहाड़ी पर ले गए और दो-तीन मिनट तक गोलियां बरसाते रहे. हरजीत मसीह ने कहा कि, उस समय मैं बीच में खड़ा था, मेरे पैर पर गोली लगी और मैं नीचे गिर गया और वहीं चुपचाप लेटा रहा. बाकी सभी लोग मारे गए, मैं बच गया. इसके बाद मैं किसी तरह भारत वापस आया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here