धार से इंदौर जाने वाले यात्रियों को बड़ी खुशखबरी, टोल नाके से मिलेगी राहत

इंदौर। धार से इंदौर (Dhar to Indore) जाते समय घटाबिल्लौद के आगे लगने वाला टोल नाका सबसे महंगा टोल नाका है। जिसकी वजह से आने-जाने वाले यात्री थोड़ा परेशान हो जाते है लेकिन अब इससे बहुत जल्दी ही राहत मिलने वाली है। आपको बता दें कि, इस संबंध में धार के लोकप्रिय सांसद छतर सिंह दरबार ने सड़क परिवहन और राजमार्ग मामलों के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) से मंत्रालय में चर्चा की थी। इस दौरान सांसद ने घाटाबिल्लोद स्थित टोल नाके को अधिक महंगा होने से यात्रियों की परेशानी होने की समस्या बताई थी।

ALSO READ: छतों से बिजली बनाने में लगातार मालवांचल के उपभोक्ताओं में वृद्धि

इस दौरान उन्होंने मंत्री के समक्ष टोल शुल्क कम करने की मांग रखी थी। उनकी इस अपील के बाद नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने छतर सिंह दरबार को इस संबंध में बहुत जल्दी ही निर्णय लेने के लिए आश्वस्त किया था। वहीं अब कल लोकसभा में सड़क परिवहन और राजमार्ग मामलों के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने यह घोषणा की अब से जो भी टोल नाका होगा, वह 60 किलो मीटर की दूरी पर स्थित होगा। उल्लेखनीय है कि, अभी 60 किलो मीटर की दुरी के मध्य कई टोल नाका चल रहा है जिसे हटा दिया जाएगा।

ALSO READ: देवी अहिल्या ने देश को दिया महिला सशक्तिकरण का उत्तम उदाहरण : राज्यपाल

बता दें कि, केंद्र सरकार के इस निर्णय से धार से इंदौर जाने वाले यात्री और इंदौर से धार आने वाले यात्रियों को बड़ी राहत मिलेगी। इसकी वजह से घाटाबिल्लोद स्थित टोल नाका अब बोधवाड़ा और मांगोद के बीच स्थापित होगा। साथ ही टोल नाका घाटाबिल्लोद से हटने से धार के यात्रियों को महंगे टोल नाके से निजात मिलेगी। सांसद ने धार के नागरिकों की व्यथा को नितिन गडकरी के समक्ष रखा। जिसके बाद उन्होंने संपूर्ण देश भर में टोल नाके के संबंध में नई नीति की घोषणा की गई है, जिसके कारण धार वासियों को बहुत अच्छी राहत मिली है।