ओडिशा हनीट्रैप मामले में कई खुलासे हो रहे हैं। अबतक इस केस में 18 विधायक, 3 मंत्री और कई नौकरशाह होने की जानकारी मिली है। इस मामले का शिकार सबसे पहले फिल्म मेकर हुआ था। उसने इसकी शिकायत पुलिस को की थी। इसके बाद आरोपी को पकड़ लिया गया है। उससे लगातार पूछताछ की जा रही है, इस दौरान उसने कई मशहूर लोगों के नाम बताया है। लेकिन अब इस मामले में नया ट्विस्ट आ गया है. हनीटैप की आरोपी अर्चना नाग ने कह दिया है कि अगर उसने मुंह खोल दिया तो ओडिशा में सबकुछ बदल जाएगा।

किंगपिन अर्चना नाग की धमकी

हनीट्रैप रैकेट से पूरे ओडिशा में भूचाल ला देनेवाली दंपति को लेकर जैसे-जैसे प्रवर्तन निदेशालय (ED) की जांच आगे बढ़ती जा रही है। इस मामले को लेकर नए-नए खुलासे भी होते जा रहे हैं। मामले की मास्टरमाइंड और हनीट्रैप रैकेट की किंगपिन अर्चना नाग ने अब जो बात कही है, वो पूरे सूबे में अच्छे-अच्छों की नींद उडाने के लिए काफी है। अर्चना ने कहा है कि उसे गलत तरीके से फंसाया गया है और जब वो अपना मुंह खोलेगी, तो पूरे राज्य में बड़ा परिवर्तन हो जाएगा। उसका इशारा शायद ओडिशा की सत्ता परिवर्तन से था। सूत्रों के मुताबिक 18 विधायक, 3 मंत्री, कई नौकरशाह और ढेरों नामी गिरानी लोग इस कपल की चालबाजी का शिकार बन चुके हैं।

पुलिस पर प्रताडना का आरोप

मीडिया से बात करते हुए अर्चना यहीं नहीं रुकी, बल्कि उसने ओडिशा पुलिस पर सनसनीखेज आरोप लगाए। नाग ने कहा है कि ओडिशा पुलिस ने उसे ना सिर्फ गलत तरीके से एक थाने में 60 घंटे से भी ज्यादा हिरासत में रखा गया, बल्कि इस दौरान मानसिक रूप से बुरी तरह प्रताड़ित भी किया गया। यहां तक कि हिरासत के दौरान उसे अपने बुजुर्ग मां-बाप से भी मिलने की इजाजत भी नहीं दी गई।

फिल्म मेकर ने दर्ज कराई थी शिकायत

अर्चना और उसके पति जगबंधु पर ओडिशा के बहुत से प्रभावशाली लोगों को हनीट्रैप में फंसाने और उन्हें ब्लैकमेल करने का इल्जाम है। इस पूरे एपिसोड की शुरुआत तब हुई, जब इस जोड़ी ने हनीट्रैप के इस खेल में ओडिशा ये ही एक फिल्म मेकर अक्षय परीजा को खींचने की कोशिश की। इल्ज़ाम है कि अर्चना नाग चंद ने एक लड़की के जरिए सबसे पहले अक्षय पर कासटिंग काउट का आरोप लगाया और फिर मामले को दबाने के लिए 3 करोड़ रुपये की मांग की। लेकिन फिल्म मेकर अक्षय ने दबने या घबराने की जगह उल्टा भुवनेश्वर के नयापल्ली थाने में केस दर्ज करवा दिया।

3 करोड़ की मांग

अक्षय परीजा ने शिकायत में कहा “अर्चना नाग चंद ने एक वकील के तौर पर उससे मुलाकात की और ये बताया कि उसकी एक क्लाइंट की मेरे साथ कुछ आपत्तिजनक वीडियोज हैं। अगर मैं खुद को इस केस से बचाना चाहता हूं तो मुझे उन्हें 3 करोड़ रुपये देने होंगे वरना वो मेरे टुकड़े-टुकड़े कर मुझे जान से मरवा देगी।”

लड़की ने थाने में की शिकायत

उधर, अर्चना के खिलाफ खंडागिरी थाने में अर्चना के खिलाफ एक लड़की ने शिकायत दी थी, जिसमें कहा गया था कि अर्चना ने धोखे से उसकी अश्लील तस्वीरें और वीडियोज़ शूट कर लिए और उसे परीजा के साथ नजदीकी बढ़ा कर हनीट्रैप में फंसाने का काम सौंपा गया। लड़की ने अपनी शिकायत में बताया कि अर्चना और उसके पति जगबंधु ने उसे साल 2019 में अपने घर खाने पर बुलाया था और इसके बाद धोखे से खाने में नशीली चीज़ मिला कर उसके साथ ज्यादती की। जब उसे होश आया तो उसने देखा कि उसके जिस्म पर कपड़े नहीं हैं। लड़की का कहना है कि तब तक दोनों ने मिल कर उसकी आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियोज़ बना लिए थे।

शातिर दंपति के करोड़पति बनने की तिलस्मी कहानी

ओडिशा के बोलांगीर जिले के एक आम परिवार से आने वाली अर्चना 2015 में राजधानी भुवनेश्वर पहुंची। उसने इंटीग्रेटेड लॉ कोर्स में दाखिला लिया और एक प्राइवेट सिक्योरिटी फर्म में काम करना शुरू कर दिया। लेकिन कुछ ही महीनों में उसने अपनी नौकरी छोड़ दी और एक ब्यूटी सैलून शुरू कर दिया। और बस यहीं से उसने रातों-रात अमीर होने का ऐसा ख्वाब देखा कि सीधे हनीट्रैप रैकेट की मास्टरमाइंड बन गई। उसके सपनों को तब पर मिल गए, जब उसकी मुलाकात 2017 में बालासोर के एक और महत्वाकांक्षी नौजवान युवक जगबंधु चांद से हुई। वह गांव में किराने की दुकान चलाता था. दोनों को प्यार हो गया और उन्होंने शादी कर ली।

ब्लैकमेलिंग का खेल

फिर तो इसके बाद इसके बाद बंटी बबली की इस जोड़ी ने वो खेल शुरू किया कि इनके शिकार पानी भी ना मांग सके. अब दोनों बडे लोगों को हनीट्रैप में फंसाने लगे और ब्लैकमेल कर करोड़ों की उगाही करने लगे. अर्चना और जगबंधु की मॉडस ऑपरेंडी भी काफी खतरनाक थी. जगबंधु खुद को एक राजनीतिक पार्टी का मेंबर बताता और उसकी बीवी अर्चना खुद को वकील. दोनों लोगों को अपने घर दावत पर बुलाते और खाने में नशीली चीज़ मिलाकर या फिर हुस्न का लालच देकर उन्हें बिस्तर तक ले जाते और फिर खुफिया कैमरों से उनका आपत्तिजनक वी़डियो शूट कर लेते और फिर शुरू होता ब्लैकमेलिंग और वसूली का खौफनाक खेल.

ऐसे इकट्ठा की करोड़ों की दौलत

अपने पकड़े जाने से पहले दोनों ने सूबे के बेशुमार बड़े से बड़े शख्स को जी भर कर लूटा और करोड़ों की दौलत इकट्ठी की. सूत्रों की मानें तो इन दोनों ने किसी को नहीं बख्शा. जो भी एक बार इनके घर खाने पर गया, वो काम से गया. चाहे वो सत्ताधारी पार्टी के नेता हो, विपक्ष के बड़े चेहरे हों, बड़े से बड़ा ब्यूरोकैट हो, अमीर कारोबारी हो या फिर फिल्म मेकर. इस जोड़ी के पास हर किसी के ऐसे अंतरंग पलों की तस्वीरें और वीडियो मौजूद हैं, जो किसी को भी बर्बाद कर देने के लिए काफी हैं.

पुलिस ने भी दिखाई लापरवाही

जानकार बताते हैं कि ये इस जो़ड़ी का रसूख ही है जो इन्हें अब तक बचाता आ रहा था. इनके खिलाफ ओडिशा में अब तक कई लोगों ने शिकायतें दी और ये सिलसिला पिछले दो सालों से चल रहा था. लेकिन हर बार पुलिस शिकायतों को ठंडे बस्ते में डाल देती थी. लेकिन अब जब एक फिल्म मेकर के साथ एक इनके हाथों इस्तेमाल कर ली गई एक लड़की ने खुद में जाकर शिकायत दी, तो फिर पुलिस के पास कार्रवाई करने के सिवाय कोई रास्ता ही नहीं बचा. कई लोगों का तो ये भी कहना है कि पुलिस ने दोनों के पास से उनके पेन ड्राइव, मोबाइल फोन और लैपटॉप समेत कई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स जब्त कर लिए हैं।

सीबीआई जांच की मांग

मगर ये सबकुछ उन्हें सजा दिलाने की कोशिश कम, बल्कि उनके गैजेट्स में बेनकाब लोगों को बचाने की कोशिश ज्यादा है. यही वजह है कि सियासी पार्टियों के नेता इस केस में अपने अपने हिसाब से जांच की मांग कर रहे हैं. बीजेपी जहां इस मामले में सीबीआई जांच की मांग कर रही है, वहीं बीजेडी ने एसआईटी की जांच पर जोर दिया है. उधर, कांग्रेस गुनहगारों को सजा दिलाने के साथ-साथ दोनों की संपत्ति जब्त करने की मांग कर रही है।