आंध्र प्रदेश के तिरूपति में एक दर्दनाक घटना हुई हैं। यह मामला रेनीगुंटा थाना क्षेत्र के एक बिल्डिंग में आगजनी हो गई हैं। मिली जानकारी के अनुसार इस घटना में तीन लोगों की मौत हो गई हैं। हादसे की वजह शॉर्ट सर्किट होने की बताई जा रही है तो वही दमकल के द्वारा लगातार बचाव कार्य किया जा रहा हैं। यह घटना रविवार सुबह 3 से 4 बजे के बीच की बताई जारी हैं।

मिली सूचना के मुताबिक, रेनीगुंटा में डॉक्टर रविशंकर रेड्डी का आवास था जहां वे अपने परिवार के साथ रहते थे। अपने आवास के ग्राउंड फ्लोर पर डॉक्टर रेड्डी ने क्लीनिक खोल रखी थी जहां वे मरीजों को देखते थे। बिल्डिंग के ग्राउंड फ्लोर पर जहां डॉक्टर रविशंकर रेड्डी मरीजों का उपचार करते थे। वहीं इसी बिल्डिंग के दूसरे और तीसरे फ्लोर पर उनका परिवार रहता था।

Also Read : पति Nick Jonas को स्टेज पर किस करती नज़र आई Priyanka Chopra, वीडियो हुआ वायरल

पुलिस अधिकारी ने ये बताया

थाना इंस्पेक्टर आरोहण राव के अनुसार, यह घटना करीब 3 से 4 बजे के बीच की हैं। इसकी जानकारी एक फोन के द्वारा मिली थी और बताया गया था की एक बिल्डिंग में आग लग गई है। सूचना मिलते ही हमने फायर ब्रिगेड के आला अधिकारियों को सूचित कर दिया था। हम सभी मौके पर पहुंचे। इसके बाद राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया।

पीडित लोगो को पहुंचाया अस्पताल

आगे उन्होंने बताया कि, तत्काल मौके पर पहुंचकर डॉक्टर रविशंकर रेड्डी सहित उनके परिवार वालों को रेस्क्यू कर लिया गया था। लेकिन इस घटना में डॉक्टर रेड्डी और उनके दो बच्चें 100 जल गए थे। उनकों नजदीकिय अस्पताल उपचार के लिए भेजा गय़ा था। जहां उनकी मौत हो गई और उनकी मां और पत्नि को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। इस घटना में उनके 12 साल के बेटे और 7 साल की बेटी की भी मौत हो गई है।

पुलिस अधिकारी ने कहा कि मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि शुरुआती जांच में आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट होने की बात सामने आ रही है। पुलिस अधिकारी के मुताबिक डॉक्टर रविशंकर रेड्डी और उनके बेटा-बेटी के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया गया है।