एजुकेट गर्ल्स ने धार, झाबुआ, बड़वानी और खंडवा के 1500 से अधिक शिक्षकों को किया सम्मानित

एजुकेट गर्ल्स संस्था के मध्य प्रदेश के स्टेट ऑपरेशन लीड रंजीत नाथ ने बताया, “शिक्षक किसी भी देश की रीढ़ होते हैं और उन्हें सम्मानित करने का ये सही समय है। वे कोविड महामारी के दौरान सच्चे नायक रहे हैं, उन्होंने महामारी की मुश्किल घड़ी में भी बच्चों की शिक्षा को जारी रखा।

एजुकेट गर्ल्स एक गैर-लाभकारी संस्था है जो भारत के ग्रामीण और शैक्षिक रूप से कमजोर वर्ग की लड़कियों की शिक्षा के लिए समुदायों को जुटाने पर अपना ध्यान केंद्रित करती है। संस्था राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बालिकाओं की शिक्षा के लिए कार्यरत है। संस्था बच्चों की शिक्षा तक पहुंच और गुणवत्ता में सुधार करने के लक्ष्य के साथ मध्यप्रदेश के धार, झाबुआ, बड़वानी, अलीराजपुर और खंडवा जिले में सराहनीय कार्य कर रही है।

शिक्षक समाज में बच्चों को शिक्षा व ज्ञान देता है। शिक्षा मिलने से व्यक्ति स्वावलंबी, ऊर्जस्वी और सम्मानजनक बनता है। शिक्षा के क्षेत्र में पथ प्रदर्शक के रूप में काम करने वाले शिक्षकों को एजुकेट गर्ल्स ने ‘शिक्षक: एक राष्ट्र निर्माता’ कार्यक्रम के माध्यम से सम्मानित किया है । कार्यक्रम का आयोजन धार, झाबुआ, बड़वानी और खंडवा में जिले और ब्लॉक स्तर पर किया जहाँ 1500 से अधिक शिक्षकों को बच्चों के नामांकन, ठहराव और कौशल विकास के स्तर को बढ़ाने में बेहतर सहयोग करने के लिए सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के दौरान एजुकेट गर्ल्स द्वारा शिक्षकों के सम्मान में जिला और ब्लॉक स्तर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए और शिक्षकों को प्रमाण पत्र और स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए।

Must Read- Indore: पुलिस ने देर रात्रि में चलाया ‘ऑपरेशन प्रहार’ अभियान, बदमाशों एवं असाजिक तत्वों के विरुध्द की कार्यवाही

सम्मानित शिक्षक सनत कुमार मिश्रा ने बताया ‘’मैंने अपने जीवन में ये पहली बार देखा कि किसी गैर-लाभकारी संस्था के द्वारा इतने बड़े स्तर पर शिक्षको का सम्मान समारोह आयोजित किया है। मैं आज सम्मानित हो कर बहुत ही गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। मै संस्था द्वारा बालिका शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की सराहना करता हूँ और संस्था के सहयोग व सम्मान के लिए धन्यवाद देता हूँ I

कार्यक्रम में उपस्थित जिला परियोजना समन्वयक, जिला शिक्षा केंद्र, धार, डी. सी. सेते ने कहा “ संस्था द्वारा शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया, यह एक सराहनीय पहल है, इससे शिक्षकों का आत्मविश्वास और बढ़ेगा I संस्था द्वारा जो फील्ड स्तर पर गतिविधिया संचालित की जा रही हैं वे प्रसंशनीय है। संस्था लगातार बालिकाओं और समाज के हित में काम कर रही हैं, मैं संस्था के सहयोग के लिए धन्यवाद देता हूँ”।

एजुकेट गर्ल्स संस्था के मध्य प्रदेश के स्टेट ऑपरेशन लीड रंजीत नाथ ने बताया, “शिक्षक किसी भी देश की रीढ़ होते हैं और उन्हें सम्मानित करने का ये सही समय है। वे कोविड महामारी के दौरान सच्चे नायक रहे हैं, उन्होंने महामारी की मुश्किल घड़ी में भी बच्चों की शिक्षा को जारी रखा। हम आगे भी बच्चों को शिक्षित करने और उनके सपनों को साकार करने के लिए शिक्षकों के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे”।

एजुकेट गर्ल्स के बारे में: एजुकेट गर्ल्स एक ग़ैर-लाभकारी संस्था है जो भारत के ग्रामीण और शैक्षिक रूप से पिछड़े इलाकों में बालिकाओं की शिक्षा के लिए समुदायों को प्रेरित करता है। सरकार के साथ साझेदारी में काम करते हुए एजुकेट गर्ल्स वर्तमान में राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के 20,000 से अधिक गांवों में सफलतापूर्वक कार्यरत है। सामुदायिक स्वयंसेवकों की बड़ी संख्या को सहभागी बनाते हुए, एजुकेट गर्ल्स स्कूल से वंचित बालिकाओं की पहचान, नामांकन, और स्कूलों में ठहराव बनाए रखने और सभी बच्चों (दोनों – बालिकाओं और बालकों) के लिए साक्षरता और अंक गणितीय योग्यता में बुनियादी सुधार के लिए मदद करता है।