इंदौर : मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कपंनी की परीक्षण प्रयोगशालाओं में गुणवत्ता सुधार प्रबंधन, आंतरिक अंकेक्षण का कार्य और अच्छा करने के लिए चार दिनी विशेष प्रशिक्षण सत्र पोलोग्राउंड स्थित सभागार में सोमवार सुबह प्रारंभ हुआ। इस प्रशिक्षण सत्र में नई दिल्ली से आए भारतीय मानक ब्यूरो जैसे नामी संस्थान से जुड़े विशेषज्ञ नई-नई जानकारियां प्रदान कर रहे हैं।

शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप प्रबंध निदेशक अमित तोमर उपस्थित थे। तोमर ने कहा कि बिजली कंपनी की केबल, ट्रांसफार्मर, तार, मीटर प्रयोगशालाओं को एनएबीएल प्रमाण पत्र लेकर राष्ट्रीय स्तर की आधुनिकता दी गई है। प्रशिक्षण का यह आयोजन कंपनी के अभियंताओं के लिए काफी उपयोगी साबित होगा।

उन्होंने कंपनी क्षेत्र के विभिन्न जिलों से आए प्रशिक्षणर्थियों से आह्वान किया कि वे प्रशिक्षण सत्र के सभी दिन रूचिपूर्वक जानकारी ले, जिन्हें भी कोई भ्रम हो, जिज्ञासा हो, वे नई दिल्ली से आए जानकारों से तुरंत प्रश्नोत्तरी के माध्यम से समाधान प्राप्त करे। नई दिल्ली से आए विषय विशेषज्ञ वक्ता एलएस चौहान, दीपक कुमार मुखोपाध्याय ने कहा कि प्रशिक्षण आगे बढ़ने और अपने कार्यों में गुणोत्तर सुधार लाने के लिए कारगर साबित होते हैं।

बिजली का कार्य तकनीक, जोखिम और अंकेक्षणों से युक्त होता है, ऐसे में सभी अभियंता दी जा रही जानकारी को अंगीकार करे और अपने दायित्वों के निर्वहन में अधिक प्रभावशीलता लाए। आयोजन में विशेष रूप से मप्रपक्षेविविकं के मुख्य महाप्रबंधक  रिंकेश कुमार वैश्य, अतिरिक्त मुख्य अभियंता आरके नेगी, संयुक्त सचिव तरूण उपाध्याय भी उपस्थित थे। शुभारंभ कार्यक्रम में उपमहाप्रबंधक सपना दामेशा और प्रबंधक (मासं) रीना चौधरी का सराहनीय योगदान रहा। समापन 19 जनवरी को होगा।