सरकार ने “डालमिया भारत समूह” के हवाले किया दिल्ली का लाल किला

0
229

नई दिल्ली : भारत सरकार ने सत्रहवीं सदी में शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया लाल किला “डालमिया भारत समूह” को सौंप दिया है. इसके साथ ही डालमिया समूह को अगले पांच सालों तक लाल किले की देखरेख और इसमें हर तरह के आयोजन का हक़ मिला है. बता दे कि ऐसा केंद्र सरकार की ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ स्कीम के तहत हुआ है.Image result for red fort insideइसी के साथ डालमिया ग्रुप भी ऐसा पहला कॉरपोरेट हाउस बन गया जिसने देश के किसी ऐतिहासिक स्थल को कॉन्ट्रेक्ट पर गोद लिया है.’ इसके लिए डालमिया समूह की ओर से सरकार को 25 करोड़ रुपए दिए हैं.Image result for red fort insideबता दे कि ‘एडॉप्ट ए हेरिटेज’ स्कीम’ के तहत लगभग सौ ऐतिहासिक इमारतों और स्थलों को निजी हाथों में देने के लिए प्रक्रिया शुरू की गई थी. इसी योजना के अंतर्गत डालमिया भारत ग्रुप ने इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर ग्रुप को पछाड़ कर लाल किला हासिल किया है.Image result for red fort insideखबर के अनुसार डालमिया ग्रुप, पर्यटन मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व विभाग के बीच इस कॉन्ट्रेक्ट पर 8 अप्रैल को हस्ताक्षर हुए थे. इस कॉन्ट्रेक्ट के मुताबिक डालमिया ग्रुप को 6 महीने के भीतर लाल किले में बेसिक सुविधाएं देनी होंगी, जिनमें पीने के पानी की सुविधा, स्ट्रीट फर्नीचर जैसी सुविधाएं हैं. इसके अलावा डालमिया समूह अब लाल किले के रखरखाव, सौंदर्यीकरण,प्रचार प्रसार का काम करेगा. वह पर्यटकों से लाल किले में भ्रमण का शुल्क भी वसूलेगा.

बता दे कि दिल्ली का लाल किला विश्व विरासत में शामिल है. यूनेस्को ने सन 2007 में इसे विश्व विरासत सूची में शामिल किया था. अभी इसका रखरखाव भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण करता है. इसे सत्रहवीं शताब्दी में शाहजहां ने बनवाया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here