सीएम अरविंद ने कहा- 5 सालों में 20 लाख नौकरियों का रोड़ मेप करेंगे तैयार, राहुल गांधी ने अग्निपथ योजना को लेकर केंद्र पर साधा निशाना

देश में बेरोजगार लोगों की गंभीर समस्या बताते हुए दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। इधर कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने अग्निवीर रिक्रूटमेंट पर एक बार केंद्र को सवालों के घेरे में लिया।

देश में बेरोजगार लोगों की गंभीर समस्या बताते हुए दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। इधर कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने अग्निवीर रिक्रूटमेंट पर एक बार केंद्र को सवालों के घेरे में लिया। अरविंद ने आप सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए। रोजगार के लिए अगले 5 साल का रोडमैप तैयार किया जायेगा। जिसमे दिल्ली के बेरोजगार लोगों को 20 लाख रोजगार देने का लक्ष्य रखा है।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, आज बेरोजगारी की गम्भीर समस्या है। दिल्ली में बीते कुछ सालों में हमने 12-13 लाख युवाओं को रोजगार दिलाया है। अगले 5 साल के लिए 20 लाख रोजगार का टारगेट है। दिल्ली फूड कैपिटल ऑफ इंडिया माना जाता है।

Also Read : UIDAI ने कैंसिल किए 6 लाख आधार कार्ड जानिए क्यों

देश की राजधानी दिल्ली में दुनियाभर का हर किस्म का खाना मिलता है। कहीं तिब्बतन, कहीं चाइनीज खाना अच्छा मिलता है, इन्हें डवलप करने का हमारा प्लान है। हम इनका फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर ठीक करेंगे और फिर फ़ूड सेफ्टी का इंतजाम करेंगे और फिर उस फ़ूड हब की ब्रांडिंग की जाएगी, ताकि देश दुनिया से लोग आ सकें।

दिल्ली फेज वन में पायलट बेसिस पर दो फूड हब्स तैयार कर रहे हैं, मजनूं का टीला और चांदनी चौक। दिल्ली शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने इसे लेकर काफी मीटिंग्स की हैं। हम इसके लिए डिजाइन कॉम्पटिशन कराएंगे, ताकि कैसे इन दो फूड हब्स को डिजाइन किया जाए। यह काम 6 हफ्ते में हो जाएगा। इनके एक्सपीरियंस के बेसिस पर बाकी फ़ूड हब्स को डवलप करेंगे। इससे बहुत रोजगार पैदा होने की उम्मीद है।

राहुल ने अग्निवीर रिक्रूटमेंट पर दिया ये बड़ा बयान

देशभर में आज सेना में भर्ती के लिए अग्निवीर रिक्रूटमेंट एग्जाम आयोजित हो रहीं है। इसी के तहत उत्तर प्रदेश के कानुपर में भी 17 केंद्रों में यह परीक्षा करवाई जाएगी। कानपुर कमिश्नरेट में कुल 11 सेंटर और कानपुर बाहरी में 6 केंद्र बनाए गए हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि, 60,000 सैनिक हर साल रिटायर होते हैं, उनमें से सिर्फ 3000 को सरकारी नौकरी मिल रही है। 4 साल के ठेके पर हज़ारों की संख्या में रिटायर होने वाले अग्निवीरों का भविष्य क्या होगा? प्रधानमंत्री की प्रयोगशाला के इस नए एक्सपेरीमेंट से देश की सुरक्षा और युवाओं का भविष्य दोनों खतरे में हैं।