नागरिकता संशोधन विधेयक: BJP की चेतावनी, संविधान मानने को हर मुख्यमंत्री बाध्य

0
42
Ram Madhav

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन विधेयक पर लोकसभा में बहस जारी है। इसी बीच इस बिल को लेकर बीजेपी महासचिव राम माधव ने विपक्ष पर तीखा हमला बोला है। उन्होने कहा है कि इस बिल को लेकर विपक्ष की ओर से दी जाने वाली दलीलें गुमराह करने वाली है। यह विधेयक किसी को अलग रखने के लिए नहीं लाया गया है, जबकि ये उन अल्पसंखयक लोगों को शामिल करने की कोशिश है, जो बीते 70 सालों में देश में आए हैं।

भाजपा नेता ने इस विधेयक को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी पर भी हमला बोला है माधव ने कहा है कि यदि यह विधेयक दोनों सदनों में पास हो जाता है तो यह संविधान का हिस्सा बन जाएगा। ऐसे में मुख्यमंत्री होने के नाते, ममता बनर्जी को संविधान के हर कानून का पालन करना होगा। यदि वह ऐसा नहीं करती हैं, तो इस पर केंद्र फैसला लेगा कि उन्हें क्या करना है।

भाजपा महासचिव ने कहा है कि यह विधेयक उन अल्पसंख्यकों को बचाने के लिए लाया गया है, जो भारत आए। यदि वे भारत में पिछले पांच साल से ज्यादा समय से रह रहे हैं तो वे भारत की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं। हम बहुत से लोगों को शरणार्थी का स्टेटस देने के लिए तैयार हैं। इनमें पाकिस्तान और श्रीलंका से आने वाले लोग भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here