71 साल के कमलनाथ रिटायरमेंट की उम्र में बनेगें मुख्यमंत्री

0
75

भोपाल: प्रदेश की राजनीति में कलकत्ता से आयातित, कानपुर में जन्मे 187 करोड़ के मालिक और चार हवाई जहाज़ों को रखने वाले कमलनाथ का प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनना सचमुच में चौंकाने वाला निर्णय है। वे केंद्र सरकार में पंद्रह सालों से ज्यादा मंत्री रहे लेकिन उनकी छवि आज भी नेता की कम व्यापारी की ज्यादा है। Image result for kamalnathकमलनाथ न तो युवा हैं कि जो प्रदेश के दो करोड़ वोटर जो तीस साल कम के हैं उन्हें प्रभावित कर सकें, न ही वे दलित-आदिवासी या पिछड़े हैं कि प्रदेश की इस 70 प्रतिशत आबादी की सहानुभूति पा सकें। वे उम्र के उस पड़ाव पर हैं जहाँ लोग रिटायरमेंट लेते हैं, लेकिन कांग्रेस ने उन्हें उनकी ज़िद पर उम्र के इस पड़ाव पर नई ज़िम्मेदारी दे दी।    Image result for kamalnathपिछले पंद्रह सालों में जिस तरह भाजपा और शिवराज सिंह ने प्रदेश की राजनीति का व्याकरण बदला है उसे कोई भी कांग्रेस का नेता समझ नहीं पाया। जिस तरह की छवि मुख्यमंत्री ने बिलकुल आम आदमी और 18 घंटे मेहनत करने वाले नेता की बनाई है उसके हर एंगल से कमलनाथ विपरीत स्वाभाव के व्यक्ति हैं। पिछले पंद्रह सालों में जब कांग्रेस राज्य में विपक्ष में थी तब शायद ही वे छिंदवाड़ा छोड़ कर थोड़ा-बहुत कहीं गए हों। Related imageकांग्रेस पार्टी ने जिस तरह अपनी पसंद बताई है उससे स्पष्ट हो गया है कि वह आज भी ‘ज़मीन’ के बजाये ‘हवा’ और ‘पैसे’ वाले नेताओं को तरजीह देती है। अब चार कार्यकारी अध्यक्ष कैसे होंगे सब जानते हैं। Image result for kamalnathठीक ही है अब अडानी-अम्बानी के ज़माने में कार्यकताओं की क्या बिसात, चाहे दीनदयाल उपाध्याय जी हों या महात्मा गांधी बेचारे सब कांच की फोटो में बंद हैं और दोनों प्रमुख दल ”पैसे वाले नेताओं” के हवाले। विश्वास न हो तो दोनों दलों के नेताओं पर एक नज़र दल लें। सब के सब धनपशुओं से संचालित। Related imageवैसे एक मित्र कह रहें हैं कि आज के इस निर्णय से सबसे ज्यादा खुश शिवराज और मोदी हैं जिन्हे 2018 और 2019 में फिर सरकार बनाना है।   2

                                                                                   दीपक तिवारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here