Breaking News

चमकी बुखार : बीजेपी सांसद का बेतुका बयान, कहा- ‘4G’ से हो रही बच्चों की मौत

Posted on: 18 Jun 2019 17:03 by bharat prajapat
चमकी बुखार : बीजेपी सांसद का बेतुका बयान, कहा- ‘4G’ से हो रही बच्चों की मौत

बिहार में चमकी बुखार से अब तक 108 बच्चों की मौत हो गई है साथ 16 बच्चे गंभीर हैं। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के सांसद अजय निषाद ने एक बेतुका बयान दिया है। जिसकी चारों तरफ आलोचना की जा रही है। दरअसल निषाद ने चमकी बुखार के लिए ‘4जी’ को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होने गांव, गर्मी, गंदगी और गरीबी को 4 जी बताया है। निषाद ने कहा कि पिछड़े समाज के लोगों का इस बिमारी से ताल्लुक है, उनके रहन-सहन का स्तर नीचे है। जिसके चलते बच्चे बिमार हो रहे हैं।

मुजफ्फरपुर से सांसद अजय निषाद ने कहा, ‘यह मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में है. हर आदमी की अपनी व्यस्तता होती है। आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर गए, उसके लिए उन्हें आभार है। इस मामले में ठोस कदम उठाने की जरूरत है कि आने वाले समय में बीमारी पर कैसे काबू पाया जाए। बच्चे जो बीमारी की हालत में अस्पताल में आते हैं, उनकी और मरने वाले बच्चों की संख्या कैसे कम हो।’

बीजेपी सांसद ने कहा, ‘अभी तक बीमारी अज्ञात है। हर कोई अपनी राय दे रहा है। मेरा मानना है कि हमें 4जी पर ज्यादा काम करने की जरूरत है। पहले जी से गांव, दूसरे जी से गर्मी, तीसरे जी से गरीबी और चैथे जी से गंदगी। कहीं न कहीं इससे इस बीमारी का ताल्लुक है। जो भी इलाज के लिए मरीज आते हैं, वह गरीब तबके से होते हैं। ज्यादार अनुसूचित जाति के होते हैं. उनका रहन-सहन का स्तर बहुत नीचे है. उसको भी ऊपर उठाने की जरूरत है।’

बता दे कि मुज्जफरपुर में अब तक एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से लगभग 108 बच्चों की मौत हो गई है। जिला के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि नीतीश कुमार ने उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ सरकारी श्री कृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एसकेएमसीएच) का दौरा किया किया है। जहां पर उन्होने इलाज करा रहे बच्चों और उनके परिजनों से मुलाकात की है।

बताया जा रहा है कि सीएम द्वारा स्थिति का जायजा लेने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की जाएगी। खबरों के अनुसार कुल 108 मृतक बच्चों में से एसकेएमसीएच में 88 और निजी केजरीवाल अस्पताल में 19 बच्चों की मौत हुई है। वहीं दोनो अस्पतालों में गंभीर रूप से बीमार लगभग करीब 100 बच्चों का इलाज किया जा रहा है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com