HDFC बैंक के ग्राहकों का खर्च अब बढ़ने वाला है. बैंक ने अपना होम लोन को अब महंगा कर दिया है. इस कारण लोगों की EMI बढ़ेगी. महंगाई के इस दौर में लोगों की जेब पर एक और बड़ा झटका देने वाला हैं . रिजर्व बैंक के रेपो दर बढ़ाने के बाद ये इजाफा हुआ है.

HDFC बैंक ने अपने कस्टमर्स को प्रबल झटका दिया है. बैंक ने होम लोन पर अपनी रिटेल प्राइम लेंडिंग रेट (RPLR) में परिवर्तन किया है. बैंक ने एक स्टेटमेंट में कहा कि 20 दिसंबर 2022 से उसने अपने प्राइम लेंडिंग रेट (RPLR) में 35 बेसिस प्वाइंट यानी 0.35 फीसदी की वृद्धि करने का निर्णय किया है. इस इजाफे के बाद होम लोन की मिनिमम रेट बढ़कर अब 8.65 फीसदी हो गई है. HDFC के मुताबिक, होम लोन पर 8.65 फीसदी की इंट्रेस्ट रेट सिर्फ उन कस्टमर्स के लिए ही होगी, जिनका क्रेडिट स्कोर 800 या उससे अधिक होगा.

बढ़ जाती है होम लोन EMI

इस साल मई से लेकर अब तक HDFC बैंक अपनी लोन की रेट में 2.25 फीसदी तक की वृद्धि कर चुका है. एक बार फिर से हुई इस वृद्धि के बाद होम लोन और महंगा हो जाएगा. होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट बढ़ने से लोगों की EMI बढ़ जाती है. बढ़ी EMI का भार कम करने का एक तरीका लोन का टेन्योर (Loan Tenure) बढ़वाना है. ख़ास तौर पर बैंक भी चाहते हैं कि ग्राहक लोन का टेन्योर बढ़वाएं.

HDFC बैंक ने पिछले महीने भी प्राइम लेंडिंग दर में वृद्धि की घोषणा की थी. HDFC बैंक ने अपनी वेबसाइट पर कहा है कि एडजस्टेबल रेट होम लोन ( ARHL) को फ्लोटिंग या वेरिएबल दर लोन के रूप में भी जाना जाता है. ARHL का बेंचमार्क रेट RPLR से जुड़ा होता है. HDFC का कोई भी परिवर्तन RPLR लागू इंट्रेस्ट रेट पर असर डाल सकता है.

Also Read – मकान मालिक ने किराए की जगह शारीरिक संबंध की कर दी थी डिमांड, एक्ट्रेस ने बताई पूरी हकीकत

RBI ने बढ़ाई रेपो रेट

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कुछ वक़्त पहले रेपो दर में बढ़ोतरी की थी. जिसके बाद से देश के निजी और सरकारी बैंकों ने अपने होम लोन महंगे कर दिए हैं. रिजर्व बैंक के द्वारा महंगाई पर संयम रखने के लिए उठाए जाने वाले कदमों से कर्ज की दरों पर भी इसका असर पड़ रहा है. रिजर्व बैंक ने इस साल निरन्तर पांच बार रेपो रेट में इजाफा किया है.वर्ष के आखिरी महीने में रेपो रेट में 0.35 फीसदी की वृद्धि के बाद (RBI Repo Rate Hike) रेपो रेट 6.25 फीसदी पर पहुंच गया है. इस साल केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरों में कुल 2.25 फीसदी का वृद्धि किया है. रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट में वृद्धि का सिलसिला मई 2022 महीने से शुरू किया गया था. तब रेपो रेट में 0.40 फीसदी की वृद्धि की गई थी.